स्वरोजगार

uttarakhand: berojgar yuwao ko swarojgar se jodne ki kavayad huwi tej

बागेश्वर, 26 अक्टूबर 2020
कोरोना काल में प्रदेश के अधिकांश युवा नौकरी से हाथ धो बैठे है। घर लौटे प्रवासियों को सरकार स्वरोजगार से जोड़ने के प्रयास में जुटी हुई है। सरकार के निर्देश पर जनपद स्तरीय अधिकारी भी लगातार इस कवायद में जुटे हुए है।

सोमवार को विकास भवन में जिलाधिकारी विनीत कुमार की अध्यक्षता में वीर चन्द्र सिंह गढवाली पर्यटन स्वरोजगार योजना के अंतर्गत वाहन/गैर वाहन मद एवं दीन दयाल उपाध्याय गृह आवास (होम स्टे) ऋण राज्य सहायता विकास योजना के आवेदन पत्रों की स्क्रीनिंग हेतु गठित जिला स्तरीय स्क्रीनिंग समिति की बैठक आहूत की गयी।

जिलाधिकारी ने कहा कि इस योजना का मुख्य उद्देश्य बेरोजगार युवाओं को अपना रोजगार मुहैया कराना एवं उनकी आर्थिकी को बेहतर करना हैं। उन्होंने कहा कि इस योजना के सफल क्रियान्वयन से जहां एक ओर जनपद में आने वाले पर्यटकों को आवष्यक सुविधायें उपलब्ध होगी वही, दूसरी ओर स्थानीय बेरोजगार युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे।

जिलाधिकारी ने कहा कि आवेदकों द्वारा जिस मद के लिए आवेदन किया हैं धनराशि उसी मद में खर्च हो इसके लिए उन्होंने जिला पर्यटन अधिकारी को निरन्तर निगरानी कर स्थलीय निरीक्षण करने केे निर्देश दिए।

वीर चन्द्र सिंह गढवाली पर्यटन स्वरोजगार योजना जिला स्तरीय स्क्रीनिंग समिति की बैठक में वाहन मद में प्राप्त 6 आवेदनों में से 5 आवेदक उपस्थित हुए जिसमें 3582419 तथा गैर वाहन मद में प्राप्त 10 आवेदनों में से एक आवेदक उपस्थित हुए जिसमें 6 लाख की धनराशि की सैद्धान्तिक स्वीकृति प्रदान की गयी।
इसके अलावा होम स्टे योजना के अंतर्गत प्राप्त 5 आवेदनों में से 4 आवेदक उपस्थित हुए कमेटी द्वारा इस योजना के लिए 21 लाख धनराशि की सैद्धान्तिक स्वीकृति प्रदान की गई।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डीडी पंत, लीड बैंक अधिकारी एनआर जौहरी, महाप्रबंधक उद्योग जीपी दुर्गापाल, जिला पर्यटन अधिकारी कीर्ति आर्या, जिला विकास प्रबंधक नावार्ड गिरीश चन्द्र पंत, सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी कृष्ण चन्द्र पलड़िया सहित आवेदक मौजूद रहे।