shishu-mandir

पिथौरागढ़ में गोट वैली योजना से 100 लाभार्थी होंगे लाभान्वित

Newsdesk Uttranews
3 Min Read
Screenshot-5

पिथौरागढ़,6 अगस्त 2023

new-modern
gyan-vigyan

पिथौरागढ़ में जनपद स्तरीय गोट वैली क्रियान्वयन, मूल्यांकन एवं अनुश्रवण समिति की बैठक में इस परियोजना के क्रियान्वयन को लेकर कई निर्णय लिए गए।

saraswati-bal-vidya-niketan


पिथौरागढ़ की जिलाधिकारी रीना जोशी की अध्यक्षता में संपन्न बैठक में जिलाधिकारी रीना जोशी ने पशुपालन विभाग व अन्य संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ गोट वैली योजना के बेहतर क्रियान्वयन को लेकर विस्तृत रूप से चर्चा की तथा संबंधित अधिकारियों को जनपद में गोट वैली योजना का क्रियान्वयन बेहतर ढंग से करने, योजना के अंतर्गत चयनित लाभार्थियों को पशु पालन विभाग द्वारा तकनीकी सहयोग देने तथा नियमित स्थलीय निरीक्षण करने, आरसेटी व उद्योग विभाग से समन्वय बनाकर बकरी पालकों को बकरी पालन व्यवसाय का उचित प्रशिक्षण देने और लाभार्थी द्वारा लोन की धनराशि से नई बकरियों को खरीदने के निर्देश दिए।


जिलाधिकारी ने मुख्य विकास अधिकारी को निर्देश देते हुए कहा कि गोट वैली योजना का मनरेगा व रीप परियोजना से कन्वर्जन कर गोट वैली योजना के लाभार्थियों को अन्य सहयोगात्मक लाभ भी दिया जाए।


बैठक में मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ. योगेश भारद्वाज ने पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से गोट वैली योजना के बारे में बताते हुए कहा कि गोट वैली योजना का उदेश्य एक क्षेत्र विशेष में लोगों को बकरी पालन के लिए प्रोत्साहित करना है। उन्होंने कहा कि पिथौरागढ़ जिले में गोट वैली योजना में चार विकास खंड बिण, मुनाकोट, कनालीछीना और धारचूला को शामिल किया गया है। उन्होंने। बताया कि प्रत्येक क्षेत्र में क्लस्टर आधारित गांव में 25 लाभार्थियों का चयन विकास खंड स्तर से करने की प्रक्रिया चल रही है। इस योजना से कुल एक सौ लाभार्थियों लाभान्वित होंगे।


डॉ. योगेश भारद्वाज ने बताया कि चयनित लाभार्थियों को प्राथमिक सहकारी समिति तथा उत्तराखंड भेड़ एवं ऊन विकास बोर्ड में पंजीकरण कराना अनिवार्य है। चयनित लाभार्थियों को एनसीडीसी के माध्यम से बकरियां खरीदने के लिए हर एक लाभार्थी को 30 हजार रुपये ऋण दिया जाएगा। इन बकरियों का बीमा पशु पालन विभाग पशुधन बीमा योजना के तहत कराएगा। बकरी पालकों को समय समय पर विभाग द्वारा प्रशिक्षण भी देगा। इसके बाद इन बकरी पालकों को 63 हजार रूपये प्रति लाभार्थी अनुदान भी बकरियां क्रय करने के लिए पशु पालन विभाग देगा।


बैठक में मुख्य विकास अधिकारी वरुण चौधरी,जिला विकास अधिकारी रमा गोस्वामी, सहायक निबंधक सहकारिता सी.एस. पाँगती,जिला परियोजना प्रबंधक रीप प्रतीम भट्ट,उप मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी तथा विकास खंड बिण, मुनाकोट, धारचूला व कनालीछीना विकासखण्डोंं के पशु चिकित्सा अधिकारी आदि शामिल रहे।