उत्तरा न्यूज
अभी अभी उत्तराखंड

उत्तराखंड पुलिस ग्रेड पे मामला: सोशल मीडिया में उठे विरोध के स्वर,कोई वीआरएस मांग रहा है तो कोई कह रहा दान में दिए

Old 500 or thousand notes worth over Rs 4 crore received from Uttarakhand

देहरादून,11 जनवरी 2022- उत्तराखंड पुलिस ग्रेड-पे का मामला तूल पकड़ने लगा है। पुलिस कर्मी सरकार की घोषणा के बावजूद ग्रेड पे की बजाय दो लाख रुपये की एकमुश्त धनराशि को सरकार का झुनझुना बता रहे है।

Breaking- मकर संक्रा​न्ति पर हर की पैड़ी में स्नान पर प्रशासन ने लगायी रोक,14 जनवरी की रात को नाइट कर्फ्यू


पुलिस कर्मियों के परिजन मुखर होकर विरोध कर रहे हैं तो सोशल मीडिया में इस संबंध में सरकार के इस निर्णय का विरोध होने लगा है। 2001 के बैच के नाम पर कुछ कर्मियों ने सरकार से परिणाम भुगतने को कहा है तो कुछ ने इसे दान देने की बात कह डाली है। यही नहीं सरकार के निर्णय से छुब्ध होकर स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति दिए जाने की मांग संबंधी सूचना भी सोशल मीडिया में डाली गई है।

corona update – पिछले 24 घंटे में भारत में 1.68 लाख नए कोरोना केस


अब यह विरोध कौन कर रहा है यह तो जांच का विषय है लेकिन सोशल मीडिया में सरकार की जमकर किरकिरी हो रही है।

बीते सात साल थे पृथ्वी के इतिहास के सबसे गर्म साल


सरकार द्वारा आचार संहिता से ठीक पहले ग्रेड-पे से संबंधित पुलिसकर्मियों को झुनझुना पकड़ाते हुए मात्र एकमुश्त दो-दो लाख रुपये देने का शासनादेश जारी कर दिया। यानि यह माना जा रहा है कि अब पुलिसकर्मियों को 4600 ग्रेड-पे नहीं मिलेगा।

nitin communication

breaking- दिल्ली में सभी प्राइवेट ऑफिसो को किया गया बंद, जरूरी सेवाओं को ही अनुमति

सरकार के इस फैसले से ग्रेड-पे से प्रभावित परिजनों की आखिरी उम्मीद भी टूटती नजर आयी।
मालूम हो कि इस मामले में बीते 21 अक्टूबर 2021 को पुलिस स्मृति परेड के दिन मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा वर्ष 2001 में भर्ती पुलिस जवानों का 4600 ग्रेड पर लागू करने की घोषणा की गई थी


मुख्यमंत्री की घोषणा के बावजूद महीनों तक शासनादेश जारी नहीं हुआ। मामले में जिसके चलते पुलिस परिजन सड़क पर कई बार उतरे, हर बार उन्हें आश्वासन दिया गया.

मालूम हो कि पुलिस विभाग में वर्ष 2001 में भर्ती और 20 साल सेवारत लगभग 1500 से अधिक पुलिसकर्मियों की 4600 ग्रेड-पे करने की मांग लंबे समय से चल रही थी। प्रभावित पुलिसकर्मियों के परिजनों के सड़कों पर उतरने के बाद बीते 21 अक्टूबर 2021 को पुलिस शहीदी दिवस परेड के मौके पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने वर्ष 2001 में भर्ती पुलिस जवानों के 4600 ग्रेड पे को लागू करने की घोषणा की। अब ग्रेड पे तो नहीं मिला लेकिन एममुश्त दो लाख की धनराशि दिए जाने की घोषणा को पुलिस कर्मी खुद के साथ धोखा बता रहे है। सोशल मीडिया में इस संबंधी सूचना डालने के साथ ही सरकार के निर्णय के प्रति नाराजगी भी खुल कर जताई जा रही है।


यहां देखिए सोशल मीडिया में डाले गए नाराजगी भरे पोस्ट

Related posts

बधाई : मिनी कश्मीर के कविन्द्र को एशियन बॉक्सिंग चैंपियनशिप में रजत पदक

Newsdesk Uttranews

Nainital- ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड केंद्र खोले सरकार, कांग्रेस ने प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन

Newsdesk Uttranews

Almora- दुग्ध वाहन चालक का आकस्मिक निधन (death)

Newsdesk Uttranews
error: Content is protected !!