covid-19 vaccine

covid-19 vaccine आने के बाद से जिंदगी धीरे— धीरे पटरी पर आ रही है। भारत में वैक्सीनेशन शुरू होने के बाद से 15 फरवरी सुबह 8 बजे तक करीब 83 लाख स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर को कोरोना की वैक्सीन ​दी जा चुकी है।

Corona — टला नही है खतरा, अब एक ही अपार्टमेंट के 36 लोग पॉजिटिव


13 फरवरी से उन लाभार्थियों को वैक्सीन की दूसरी डोज दी गई, जिन्होंने पहली खुराक लगाने के के बाद 28 दिन पूरे कर लिये थे। पहला टीका लगने के बाद कोरोना की दूसरी डोज किस तरह का रिएक्शन करती है। और ऐसे में अगर तय समय पर दूसरी डोज नहीं ले पाएं हैं तो उससे क्या फर्क पड़ेगा। यह जानिये कोविड-19 नेशनल टास्क फोर्स के चेयरमैन डॉ. वी के पॉल और एम्स नई दिल्ली के डॉ. नीरजा भाटला से

covid-19 vaccine की दूसरी डोज का रिस्पॉन्स के बारे में जानकारी देते हुए डॉ. वी के पॉल ने बताया कि दूसरी डोज पहली डोज लगाने के चार से छह हफ्ते के बाद लगती है। अगर आप एक डोज के बाद दूसरी डोज लगाने के लिए नहीं तो दुबारा इसकी सूचना दी जायेगी और दूसरी डोज के लिये आपका नंबर अगली लिस्ट में आयेगा।

covid-19 vaccine उत्तराखंड पहुंचीं 92 हजार से अधिक डोज


डॉ. पॉल ने बताया कि सरकार का पूरा ध्यान इस समय स्वास्थ्य ​कर्मियों को दिये जाने वाली दूसरी डोज पर है। और इसके बाद जल्द ही 50 वर्ष से अधिक आयु सीमा के नागरिकों का टीकाकरण शुरू होगा। और इसके साथ covid-19 vaccine
टीकाकरण केंद्रों की संख्या भी बढ़ाई जायेगी।


स्तनपान कराने वाली महिलाओं स्वेच्छा से लगा सकती है डोज


देश में covid-19 vaccine के बीच कई चीजों को लेकर अभी भी संशय है। जैसे स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिये यह वैक्सीन सुरक्षित है या नही। डॉ. नीरजा भाटला ने बताया कि पूरी दुनिया में अभी तक वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली महिलाओं पर नहीं किया गया है।

मुख्यमंत्री​ ने की पिथौरागढ़, बागेश्वर व चंपावत जिले की सीएम घोषणाओं की समीक्षा

और इस कारण से उनको टीकाकरण में शामिल नही किया गया है। उन्होने बताया कि सीडीसी (CDC) की गाइडलाइंस के अनुसार फिलहाल ऐसा कोई कारण नहीं है, जिससे गर्भवती महिला या उनके होने वाले शिशु पर वैक्सीन का नकारात्मक प्रभाव देखा गया हो।

उन्होने बताया कि यदि कोई महिला स्वेच्छा से वैक्सीनेशन करवाना चाहती है तो वह लगवा सकती है। वहीं एक अन्य सवाल पूछे जाने पर कि यदि सर्जरी करानी है तो क्या उससे पहले वैक्सीन लगानी होगी। इसके जबाब में उन्होने बताया कि ऐसा नही है कि यदि वैक्सीन नहीं लगवायी है तो सर्जरी नहीं होगी। कहा कि सर्जरी से वैक्सीन का कोई मतलब नहीं है। और किसी भी की सर्जरी कराने से पहले कोविड टेस्ट कराना होता है और और जिनका आपरेशन होना वह वह दो हफ्ते पहले आईसोलेशन में चल जाये जिसे उन्हे इंफेक्शन का खतरा ना हो।

आप हमारे facebook पेज, twitter हैंडल और youtube चैनल से जुड़कर भी खबरें प्राप्त कर सकते है