shishu-mandir

प्राइवेट शिक्षकों(Private teachers) के सामने भूखमरी की स्थिति, वेतन(salary) को लेकर घरों में दिया धरना

UTTRA NEWS DESK
2 Min Read
Private teachers

Hunger situation in front of private teachers

Screenshot-5

पिथौरागढ़़, 16 जून 2020
प्राइवेट शिक्षकों (Private teachers)
के वेतन मामले का हल निकालने के लिए जागरुक समाज आगे आया है। वहीं सरकार पर इस मामले को उलझाने का आरोप लगाते हुए जिपं सदस्य जगत मर्तोलिया और अनेक प्राइवेट स्कूल शिक्षकों (Private teachers) ने पोस्टर हाथों में लेकर घरों में बैठ कर धरना प्रदर्शन किया।

new-modern
holy-ange-school

दो घंटे के इस धरना-प्रदर्शन में शामिल लोगों ने कहा कि प्राइवेट स्कूल व अभिभावक आपस में फीस का मामला तय करते तो आज शिक्षकों के सामने भुखमरी की स्थिति पैदा नहीं होती। सरकार ने बीच में आकर कहा कि कोई भी प्राइवेट स्कूल अभिभावकों से फीस नहीं लेंगे। मगर अधिकांश प्राइवेट शिक्षक (Private teachers) दो जून की रोटी के लिए तरस रहे हैं।

gyan-vigyan
https://uttranews.com/update-corona-investigation-report-of-a-person-who-succumbed-to-hospital-negative/

मर्तोलिया का कहना है कि सरकार से हम पूछना चाहते हैंं कि कैसे इन शिक्षकों को बिना फीस जमा हुए वेतन (salary) मिल पायेगा। न्यायालय के फैसले से सरकार प्रभावित होती है तो वह अध्यादेश लेकर आ जाती है, लेकिन प्रभावित होने पर जनता क्या करे। कहा कि आज प्राइवेट शिक्षकों (Private teachers) के सामने जो संकट पैदा हुआ है उसके लिए सरकार दोषी है।

धरना देने वालों ने चेताया कि यदि समस्या का समाधान नहीं हुआ तो वे सड़कोंं में उतरने को विवश होंगे। धरना प्रदर्शन के समर्थन में जिपं सदस्य मर्तोलिया के साथ प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के जिला सचिव नवीन चन्द्र कोठारी ने भी सहयोग की अपील की थी।