नैब मामले के बाद अब हल़्द्वानी के संरक्षण गृह में जिस्मफरोशी का मामला

Newsdesk Uttranews
2 Min Read

गौलापार के दृष्टिबाधित संस्थान में बालिकाओं के यौन उत्पीड़न के मामले के बाद जिला शरणालय एंव प्रवेशालय, हल्द्वानी में नाबालिग बालिका के यौन उत्पीड़न का एक नया मामला सामने आया है।

यह मामला सामने आने के बाद एक महिला कर्मचारी की सेवाएं निलंबित की गई है जबकि होम गार्ड के माध्यम से रखी दूसरी महिला कर्मचारी को सेवा से हटाकर मूल विभाग में वापस भेज गया है।


यह मामला कल यानि शुक्रवार की रात को प्रकाश में आया। जिला बाल कल्याण समिति के सदस्य रविंद्र रौतेला ने दो महिला कर्मचारियों सहित अन्य के खिलाफ हल्द्वानी कोतवाली में तहरीर दी।


तहरीर में कहा गया है कि सरंक्षण गृह की दो महिला कर्मचारी नाबालिग बच्ची को सरंक्षण गृह से बाहर किसी मकान में ले जाती थी और उसके साथ दुष्कर्म किया जाता था।विरोध करने पर उसके साथ मारपीट भी की जाती थी।


बीते दिवस एक न्यायिक अधिकारी जब सरंक्षण गृह में पहुंची तो एक नाबालिग ने उन्हें अपने साथ हो रही ज्यादती के बारे में बताया,इसके बाद मामले का खुलासा हुआ।


इधर इस मामले के तूल पकड़ने के बाद मंत्री रेखा आर्या एक्शन में नजर आई और जिला शरणालय एंव प्रवेशालय, हल्द्वानी में अनुसेवक दीपा आर्या को निलंबित करने के आदेश जारी करने के साथ ही होमगार्ड के माध्यम से रखी गई कर्मचारी गंगा को ​विभाग को हटाते हुए विभाग को वापस कर दिया।


हजिला शरणालय एंव प्रवेशालय, हल्द्वानी में नाबालिग के साथ दुष्कर्म मामले के सामने आने के बाद मंत्री रेखा आर्या ने इस मामले में जांच के आदेश दे दिए। मंत्री ने कहा कि दो सदस्यीय जांच दल की रिपोर्ट आने के बाद दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।

Joinsub_watsapp