हिमाचल चुनाव में पुरानी पेंशन बहाली भी बनी जीत का मुद्दा

editor1
2 Min Read

देहरादून। हिमाचल विधानसभा चुनाव 2022 में कांग्रेस पार्टी की जीत का प्रमुख कारण पुरानी पेंशन बहाली का मुद्दा होना भी माना जा रहा है। राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली आंदोलन (एनएम ओपीएस) उत्तराखंड ने हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस की जीत को पुरानी पेंशन बहाली के मुद्दे की जीत बताया है। एनएम ओपीएस के प्रदेश अध्यक्ष जीतमणि पैन्यूली ने कहा कि पुरानी पेंशन बहाली के लिए हिमाचल के कर्मचारियों का संघर्ष रंग लाया है। कर्मचारियों की एकजुटता के कारण पुरानी पेंशन बहाली राष्ट्रीय मुद्दा बन गया है। अब उत्तराखंड में शीघ्र पुरानी पेंशन ‘बहाली के आंदोलन को तेज किया जाएगा।

एनएमपीओएस के राष्ट्रीय अध्यक्ष विजय कुमार बंधु व हिमाचल प्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप ठाकुर के नेतृत्व में तीन मार्च 2022 को शिमला में रैली निकली थी। इसमें उत्तराखंड के एनएम ओपीएस की प्रांतीय कार्यकारिणी बड़ी संख्या में कर्मचारी अधिकारियों ने हिमाचल की विधानसभा का घेराव किया था। इसमें मातृशक्ति की बड़ी संख्या थी हिमाचल के चुनाव परिणामों ने यह साबित किया है कि कर्मचारी एकजुट होकर अपने आप को वोट बैंक के रूप में स्थापित किया है। अन्य राज्यों में भी कर्मचारी पुरानी पेंशन बहाली के लिए एकजुट होकर अपने आप को वोट बैंक के रूप स्थापित करेगा जिससे मजबूर होकर सभी राजनीतिक दलों को कर्मचारियों की मांग पुरानी पेंशन बहाली को बहाल करना होगा।

Sticky AdSense Example

Sticky AdSense Example

Content goes here. Scroll down to see the sticky ad in action.

More content...