Demand for opening milk committees

Almora- 15 din baad nhi guldar pakad se bahar

अल्मोड़ा, 13 जनवरी 2021
Almora
स्याल्दे विकासखंड के देघाट में आतंक का पर्याय बना गुलदार 15 दिन बाद भी पकड़ से बाहर है। गुलदार को पकड़ने के लिए वन विभाग ने पिंजरे भी लगाए है लेकिन वह पिंजरे में नहीं फंस रहा है।

Almora- राममंदिर में हुई राम जन्मभूमि निधि समर्पण अभियान की बैठक, 17 को भंडारा और बाईक रैली का लिया गया निर्णय आयोजित

गौरतलब है कि देघाट क्षेत्र के बरंगल पंचायत व इसके आस पास की पंचायतों में करीब 2 सप्ताह से गुलदार का आतंक बना हुआ है। 28 दिसंबर को बरंगल पंचायत की एक महिला पर गुलदार ने जानलेवा हमला कर दिया था। जबकि 30 दिसंबर को इसी पंचायत के कोठा गांव में भी घर के आंगन में खाना बना रही एक महिला पर गुलदार ने अटैक कर दिया था। जिसमें महिला बुरी तरह घायल हो गई थी। वही, 1 जनवरी को सीमावर्ती पौड़ी जिले के डुमड़ीकोट गांव में घास काटने जंगल गई एक महिला को भी गुलदार ने हमला कर घायल कर दिया था।

ग्रामीणों की मांग के बाद वन विभाग ने 30 दिसम्बर से इस क्षेत्र में गुलदार को पकड़ने के लिए 3 पिंजरे लगाए थे। गुलदार पर नजर रखने के लिए विभाग द्वारा गस्त भी लगाई जा रही है तथा लगातार बढ़ रही घटनाओं को रोकने के लिए एक शिकारी भी तैनात कर दिया है।

बदहाल सड़क (Damaged road)- ग्रामीणों का सब्र टूटा, किया प्रदर्शन

वन विभाग लगातार तेंदुए को ट्रैक करने उसकी गतिविधियों पर नजर रखने के लिए ट्रैप कैमरे भी लगा चुका है, लेकिन 15 दिन बीत जाने के बाद भी विभाग के हाथ खाली है। जबकि लगातार बढ़ रही हमले की घटनाओं से क्षेत्र में भय का माहौल बना हुआ है।

अल्मोड़ा (Almora) में इस शिला में मूर्छित होकर गिर पड़े थे स्वामी विवेकानंद, एक मुस्लिम फकीर ने की थी उनकी मदद

उप वन क्षेत्राधिकारी जौरासी हेम चंन्द्र आर्य ने बताया कि वह स्वयं पूरी टीम के साथ लगातार उक्त क्षेत्र में डटे हुए है। जिन स्थानों पर पिंजरे लगाए गये है उसके आसपास गुलदार की कोई गतिविधि नहीं दिखाई दे रही। जिस कारण अब पिंजरो को आस पास के दूसरे स्थान पर शिफ्ट किया जा रहा है, जिससे तेंदुवा शीघ्र पकड़ा जा सके।

कृपया हमारे youtube चैनल को सब्सक्राइब करें

https://www.youtube.com/channel/UCq1fYiAdV-MIt14t_l1gBIw/