प्रोन्नति न होने पर बोर्ड परीक्षाओं का बहिष्कार कर सकता है राजकीय शिक्षक संघ

उत्तरा न्यूज टीम
2 Min Read

देहरादून। उत्तराखंड में राजकीय शिक्षक संघ ने एलटी से प्रवक्ता व प्रधानाध्यापक के पदों पर प्रोन्नति न होने पर रोष व्यक्त करते हुए सरकार को चेताया है है कि इस मामले में यदि कार्रवाई न हुई तो संघ बोर्ड परीक्षा का बहिष्कार जैसा कदम उठाने पर बाध्य होगा।

जानकारी के अनुसार संघ के प्रांतीय महामंत्री ने हल्द्वानी में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मिलकर भी इस मुद्दे को रखा है। प्रांतीय महामंत्री के अनुसार 23 सितम्बर 2021 को मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में शासन, विभाग व संगठन के मध्य बैठक हुई थी। इसमें मुख्यमंत्री की ओर से तत्काल पदोन्नति करने के निर्देश दिए गए थे।

बैठक का कार्यवृत्त भी नौ नवंबर को जारी किया गया था। माजिला ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि इतना कुछ होने के बाद भी आज तक पदोन्नति नहीं हो पाई है । उल्टा सरकार पदोन्नति के बदले प्रधानाचार्य के पदों को सीधी भर्ती से भरने जा रही है। इससे 25 व 30 वर्षों से पदोन्नति की बाट जोह रहे शिक्षकों में आक्रोश है।

बताया गया कि मुख्यमंत्री को सौंपे ज्ञापन में उन्होंने कहा है कि कतिपय शिक्षकों के वरिष्ठता के मामले में लोक सेवा अभिकरण द्वारा मई 2022 में प्रशासकीय विभाग को प्रश्नगत प्रकरण का समाधान तीन माह के भीतर करने के निर्देश दिये थे लेकिन 11 माह के उपरान्त भी वरिष्ठता प्रकरण का समाधान नहीं हो पाया है। इससे पदोन्नति के प्रकरण में बाधा पहुंची है। ज्ञापन में वरिष्ठता विवाद सुलझाने का आग्रह करते पदोन्नति सूची जारी करने की मांग की गई है। संघ ने कहा है कि ऐसा न होने पर संगठन को बोर्ड परीक्षा बहिष्कार के लिए बाध्य होना पड़ेगा।

Joinsub_watsapp