उत्तरा न्यूज
अभी अभी उत्तराखंड

इगास के बहाने लंबी लकीर खींचने की कोशिश की सीएम धामी ने

खबरें अब whatsapp पर
Join Now

बीते दिवस इगास पर्व पर राजकीय अवकाश घोषित कर मुख्यमंत्री धामी ने लंबी लकीर खीचने का प्रयास किया हैं। सीएम धामी के इस कदम से छठ पर्व और करवा चौथ पर अवकाश करने पर आलोचको के मुंह बंद हो गये हैं। लोक पर्व इगास पर अवकाश घोषित किये जाने को लेकर सोशल मीडिया पर अभियान भी चलाया जा रहा था।

nitin communication

इगास पर अवकाश घोषित कर मुख्यमंत्री ने आलोचको को तो जबाब दिया ही साथ ही पूर्व मुख्यमंत्रियो को भी अनजाने में ही इस मुद्दे पर कटघरे में खड़ा कर दिया है। पहले मुख्यमंत्री ने सोशल मीडिया पर इगास के मौके पर अवकाश ​की घो​षणा की ,इगास के दिन पर पहले से ही रविवार का अवकाश पड़ रहा था और सोशल ​मीडिया पर इस निर्णय को लेकर सवाल खड़े हो रहे थे कि इगास तो इस बार रविवार 14 नवंबर को पड़ रहा है और इस दिन पहले से ही अवकाश है,लेकिन बीते दिवस इसका अवकाश सोमवार को घोषित कर सीएम ने चुनाव से ठीक पहले एक रणनीतिक बढ़त लेने का प्रयास किया।

udiyar restaurent
govt ad

धामी सरकार के इगास पर अवकाश घोषित करने के बाद भविष्य में हर बार इगास पर छुट्टी का आदेश जारी नहीं करना पड़ेगा। मुख्यमंत्री धामी ने अपने विशेषाधिकार का प्रयोग करते हुए रविवार को पड़ रहे इगास पर्व की छुट्टी सोमवार को स्वीकृत की है,जिसे लोग अपने पैतृक गाँव जाकर उल्लास के साथ बूढ़ी दिवाली मना सकें।


उत्तराखण्ड के गठन के बाद इगास को प्रचारित प्रसारित करने और लोकपर्व का संरक्षण और संवर्धन किये जाने की मांग लगातार उठती रही है। लेकिन इससे पूर्व तक रहे सभी मुख्यमंत्री इस मामले में मौन साधे रहे। अब इस मामले में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मजबूत इच्छाशक्ति दिखाते हुए इगास पर अवकाश किये जाने निर्णय लिया है।


इगास पर अवकाश किये जाने के निर्णय पर केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट और राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने उनकी सराहना की है। सोशल मीडिया में भी लोग मुख्यमंत्री धामी के इस कदम का स्वागत कर रहे हैं।

400 साल पुरानी है इगास मानने की परंपरा

पौराणिक मान्यता के अनुसार करीब 400 साल पहले बीर माधो सिंह भंडारी के नेतृत्व में टिहरी, उत्तरकाशी, जौनसार और श्रीनगर समेत अन्य क्षेत्रों से योद्वाओ को लेकर एक सेना तैयार की गई थी । इसी सेना ने तिब्बत पर हमला बोलते हुए तिब्बत सीमा पर मुनारें गाड़ दी थी। बताया जाता है कि इस दौरान बर्फ से पूरे रास्ते बंद हो गए थे और समूचे गढ़वाल में उस साल दीवाली नहीं मनाई गई।

लेकिन दीवाली के ग्यारह दिन बाद जब माधो सिंह भंडायी यह युद्ध जीत कर वापस गढ़वाल पहुंचे तब पूरे इलाक़े के लोगों ने उनके स्वागत में भव्य रूप से दीवाली मनाई थी। इसके बाद से पूरे गढ़वाल में कार्तिक माह की एकादशी को इगास बग्वाल के रूप में मनाया जाता हैं।

Related posts

एसएसबी सीमांत मुख्यालय में स्वच्छता पखवाडे का समापन

उत्तरा न्यूज डेस्क

धर्म निरपेक्ष युवा मंच की पद यात्रा का 5 वां दिन, मुहिम को मिल रहा है जनसमर्थन

Newsdesk Uttranews

आल्पस के बेरोजगार(Unemployed) कर्मियों को मेडिकल कॉलेज में नियुक्ति दिए जाने की मांग

Newsdesk Uttranews