उत्तराखंड न्यूज
उत्तराखंड कुछ अनकही बागेश्वर मुद्दा

कोई बताए मानव यहां कैसे रहे

Somebody tell how humans lived here

खबरें अब पाए whatsapp पर
Join Now

चंद्रशेखर जोशी 

दीवानी राम का परिवार और जानवर इसी छत के नीचे रहते हैं। कल रात गुलदार उनके सात साल के बेटे को आंगन से उठा ले गया।
गांव उत्तराखंड के बागेश्वर जिले में गरुड़ के पास है। इस गांव के एक छोर में हरिजन बस्ती रहती है। दीवानी राम 80 फीसदी विकलांग हैं। घर में पत्नी और दो बेटे रहते थे। कल रात सात साल के छोटे बेटे दीपक को आंगन से गुलदार उठा ले गया। जब शोर सुना तो गांव वाले भी पहुंच गए। गुलदार का पीछा किया पर वह जंगल में भाग निकला। कुछ समय बाद वन विभाग के कर्मचारी, पुलिस भी पहुंची, लेकिन बच्चा नहीं मिला। सुबह गांव के पास ही एक गधेरे में बच्चे का अधखाया शव मिला। इस गांव में तीन महीने पहले भी तीन साल के करन को गुलदार उठा ले गया था।


वन विभाग के अपने नियम हैं। जब तक गुलदार एक से अधिक लोगों को मार न डाले तब तक उसे आदमखोर घोषित नहीं किया जाता। गांव वालों ने विरोध किया तो करन की मौत के बाद कुछ दिन गांव के आसपास पिंजरे लगा दिए गए। गुलदार नहीं फंसा तो पिंजरे उठा लिए। अब यहां का कोई भी आदमी घरों से बाहर निकलने की हिम्मत नहीं जुटा रहा है।


दीवानी राम के घर में तीन जानवर हैं। इस कमरे में एक बिजली का बल्ब टंगा है। यह बल्ब कुछ दिनों पहले गांव के ही किसी व्यक्ति ने उन्हें दिया था। परिवार छोटा है पर गुजारा करना संभव नहीं। घर में राशन नहीं, दलित समुदाय के पास पहाड़ों में खेत हैं ही नहीं। कुछ लोगों के खेतों में अनाज बोते हैं, पर वह उगता नहीं।


इन गांवों से पलायन रोकने के लिए सरकार ने पलायन आयोग गठित कर दिया है। करोड़ों रुपए खर्च कर सर्वे हो रहे हैं। दिल्ली से बता तो ये भी रही है कि करोड़ों गरीबों के लिए घर बन रहे हैं, लेकिन यहां हर गांव नकर बन कर उजड़ रहा है। शहरों में रहने वाले लोग गांव छोडऩे वालों को कोसते हैं। बेसहारा लोगों को जंगली जानवरों के बीच जबरन बैठे रहने की नसीहतें देने वालों की कमी नहीं है।

Related posts

पर्यावरण बचाने उठे हजारों हाथ

अल्मोड़ा- नहीं रहीं गुलामी के दौर की आमा, 103 वर्ष की उम्र की वृद्धा का निधन (died)

Newsdesk Uttranews

गांजे की तस्करी में पकड़े गये लोगों की जमानत (Bail) याचिका न्यायालय ने की खारिज

Newsdesk Uttranews