arvind pandey file photo
arvind pandey file photo

shiksha mantri arvind pandey v 3 vidhayako samet 16 ke khilaf gair jamanati varant jari

काशीपुर, 16 अक्टूबर 2020
आठ साल पहले जसपुर में किशोरी की बरामदगी को लेकर हाईवे जाम करने के मामले में अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत ने शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय समेत काशीपुर, जसपुर व रुद्रपुर विधायकों समेत 16 लोगों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है। न्यायालय ने विशेष टीम गठित कर 23 अक्टूबर तक आरोपितों को कोर्ट में पेश करने को कहा है।
बुधवार को अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत ने आदेश में कहा कि अपर पुलिस अधीक्षक वारंट तामील करने और गिरफ्तारी को विशेष टीम गठित करें। साथ ही टीम की कार्रवाई की रिपोर्ट, टीम के सभी सदस्यों की लोकेशन और सीडीआर भी न्यायालय में पेश करें।
मामले की सुनवाई के लिए कोर्ट ने 23 अक्टूबर की तिथि नियत की है। एएसपी को जारी आदेश में कहा है कि मामले में हीलाहवाली करने पर कोर्ट की अवमानना मानी जाएगी।

ये था मामला —
जून 2012 में जसपुर में एक युवक दूसरे समुदाय की युवती को लेकर फरार हो गया था। 15 जुलाई 2012 को युवती की बरामदगी को लेकर तमाम संगठनों ने प्रदर्शन किया था।
तत्कालीन भाजपा नेता आदेश चौहान (वर्तमान में कांग्रेस विधायक जसपुर), रुद्रपुर विधायक राजकुमार ठुकराल, विधायक अरविंद पांडे (वर्तमान शिक्षा मंत्री), विधायक हरभजन सिंह चीमा, पूर्व सांसद बलराज पासी समेत कई लोगों ने प्रदर्शन कर जसपुर के सुभाष चौक के करीब हाईवे को कई घंटों के लिए जाम कर दिया था।
तत्कालीन एएसपी जगतराम जोशी ने लाठीचार्ज कर भीड़ को तितर बितर किया था। साथ ही पुलिस ने हाईवे जाम करने वाले लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था।