shishu-mandir

Death wish coffee:जानिए दुनिया की सबसे स्ट्रांग कॉफी के बारे में,इतना है कैफ़ीन कि उड़ जाएगी 3 दिनों की नींद

Smriti Nigam
4 Min Read
Screenshot-5

Death wish coffee: बायोहाज़र्ड कॉफी ने खुद को सबसे स्ट्रांग कॉफी के रूप में स्थापित किया है। इसमें कैफीन की मात्रा इतनी ज्यादा है कि इसे कंज्यूम करने के लिए आपको सलाह कम दी जाती है। इसके प्रति 12-औंस कप में 928 मिलीग्राम कैफीन कंटेंट के साथ ये बहुत रिस्की है।

new-modern
holy-ange-school

पिछले कई सालों से दुनिया में कई बड़े ब्रांड अपनी कॉफी के प्रचार प्रसार में लगे हुए हैं और उन्हें दुनिया की सबसे स्ट्रांग कॉफी का खिताब भी दिया गया है लेकिन 2013 में डेथ विश नाम की एक काॅफी सुर्खियों में आई जो की एक ऐसा मिक्स था जिसने औसत डार्क रोस्ट की 200% कैफीन सामग्री का दावा किया था, और फिर ब्लैक इनसोम्निया कॉफी चर्चा में आई, इस ब्रांड ने प्रति 12-औंस कप में 702 मिलीग्राम कैफीन कंटेंट का दावा किया था लेकिन अब एक कॉफी ने इसे भी पीछे छोड़ दिया है।

gyan-vigyan

खतरनाक है यह काफी
2016 में लॉन्च की गई बायोहाज़र्ड कॉफी ने खुद को सबसे स्ट्रांग कॉफी के रूप में स्थापित किया है।  इसमें कैफीन की मात्रा इतनी ज्यादा होती है कि इस कंज्यूम करने के लिए सुरक्षित भी नहीं माना जाता है। इसमें प्रति 12-औंस कप में 928 मिलीग्राम कैफीन कंटेंट के साथ, बायोहाज़र्ड कॉफी निश्चित रूप से कंजंप्शन करने के लिए एक रिस्की कॉफी है और अगर आपके शरीर को कैफीन की आदत नहीं है तो ये और भी डरावना हो सकता है।

928 मिलीग्राम कैफीन प्रति 12 औंस
बायोहाज़र्ड के को-फाउंडर योनातन पिनहासोव ने दुनिया की सबसे स्ट्रांग कॉफी बनाने के बारे में कहा, “हम नहीं चाहते थे कि इसका स्वाद खराब हो लंबे समय से हाई लेवल एनर्जी का वादा करने वाली भयानक स्वाद वाली कॉफी पीने के बाद हमने इसे बनाया है। हमने अपने जैसे अन्य सभी लोगों के बारे में सोचा जैसे दिन के 18 घंटे काम करने वाले लोग, कॉलेज के छात्र, नौकरी पेशा लोग, आदि और फिर इसे बनाया।”

इसकी पैकेजिंग पर वार्निंग भी लिखी गई है जिससे ग्राहकों को यह पता चल जाए कि यह किसी साधारण कॉफ़ी की तुलना में अधिक स्ट्रांग है और इसमें 4 गुना अधिक कैफीन होता है। कथित रूप से इससे ओवरप्रोडक्टिविटी संभव है और रातभर आराम से जागा जा सकता है।

कमजोर दिल वालों को नहीं पीनी चाहिए यह काफी
बायोहाज़र्ड कॉफी पर लिखा है कि इसमें अधिकतर एनर्जी ड्रिंग की तुलना में अधिक कैफीन होता है, हालांकि इसमें  टॉरिन और अन्य कंटेंट भी होते हैं, लेकिन फिर भी, एक कप कॉफी के लिए 928 मिलीग्राम बहुत है। समझाने के लिए, 16-औंस मैकडॉनल्ड्स कॉफी में केवल 150 मिलीग्राम कैफीन होता है।

बताते चलें कि खाद्य एवं औषधि प्रशासन उन एडल्ट्स के लिए प्रति दिन अधिकतम 400 मिलीग्राम तक कैफीन की इजाजत देता है, जिनमें हार्ट डिजीज जैसे रिस्क फैक्टर नहीं हैं। प्रशासन ये भी कहता है कि लगभग 1,200 मिलीग्राम कैफीन का लगातार कंजंप्शन प्वाइजनस हो सकता है. इससे दौरे भी पड़ सकते हैं।