News-web

यात्री ने दौड़कर पकड़ी ट्रेन फिर डिब्बे में चढ़ते ही आसपास देखा तो उड़ गए होश, लाखों की मिन्नते लेकिन एक भी न आई काम

Updated on:

हड़बड़ी में पड़ी के ट्रेन कई बार यात्रियों के लिए मुसीबत भी बन जाती है। पूर्वोत्तर रेलवे में इसी तरह के कई मामले सामने आ चुके हैं और इसके बाद यात्री कई तरह-तरह की दलीलें भी देते रहे।

ऐसे यात्री कई बार ट्रैफिक में फंस कर स्‍टेशन देरी से पहुंचते हैं तो कई बार लापरवाही के कारण ऐसे स्थितियां पैदा हो जाती हैं। पूर्वोत्तर रेलवे में भी इस तरह की के कई मामले सामने आ चुके हैं जिसके बाद यात्रियों को काफी परेशानी झेलनी पड़ी और उन्होंने ऐसी गलती न करने की कसम खा डाली। पूर्वोत्तर रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी ने बताया कि यात्रा के दौरान महिलाओं की सुरक्षा भारतीय रेलवे की प्राथमिकताओं में शामिल है। इसी क्रम में रेलवे द्वारा ऑपरेशन महिला सुरक्षा चलाया जा रहा है जिसके तहत महिला कोच में यात्रा करने वाले पुरुष यात्रियों के खिलाफ धन पकड़ अभियान भी चलाया जा रहा है।

इसी कड़ी में 1 मई से 15 मई 2024 तक ऑपरेशन ‘महिला सुरक्षा‘ के तहत अभियान चलाया गया। रेलवे सुरक्षा बल की टीम द्वारा पूर्व मध्य रेल के विभिन्न रेलखंडों पर महिला कोच में यात्रा करने के आरोप में रेल अधिनियम की धारा 162 के तहत कुल 615 पुरुष यात्रियों को हिरासत में लिया गया।

इनमें सर्वाधिक 355 लोग दानापुर मंडल में, पं. दीन दयाल उपाध्याय मंडल में 151, सोनपुर मंडल में 56 तथा समस्तीपुर मंडल में 53 पुरुष यात्रियों को हिरासत में लिया गया और पेनाल्‍टी ली गयी। जांच के दौरान तमाम यात्री तरह-तरह की दलीलें देते रहे किसी ने कहा कि ट्रेन दौड़कर पकड़ी है, इस वजह से कोच पर ध्‍यान नहीं दिया तो किसी ने कहा कि कोच के बाहर पढ़ नहीं पाए थे। इस तरह यात्री टीटी से मिन्‍नतें भी करते रहे, लेकिन टीटी ने एक भी नहीं सुनी और हिरासत में ले लिया।

रेलवे सुरक्षा बल, दादरी एवं खुर्जा की संयुक्त टीम ने डीएफ़सीसीआईएल के बोड़ाकी जंक्शन  दादरी के मध्य किलोमीटर संख्या 894/08 स्थित आरएच-बी के रिले रूम से दो मोनिटर, सीपीयू, की बोर्ड, माउस आदि की चोरी में नाजिम और मान को गिरफ्तार किया। दोनों गौतमबुद्ध निवासी हैं।