badhal sawasth sevao

pithoragarh- badhal sawasth sevao ke khilaf diya dharna

पिथौरागढ़ सहयोगी, 24 नवंबर 2020
बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं (badhal sawasth sevao)
के विरोध में राज्य आंदोलनकारी मोहन पाठक के नेतृत्व में लोगों ने अस्कोट में एक दिवसीय धरना-प्रदर्शन किया।

धरने में अन्य राज्य आंदोलनकारी, छात्र नेता और वरिष्ठ कांग्रेसी प्रदीप पाल शामिल हुए। अभियान के अगले चरण में अन्य जगहों पर भी धरना—प्रदर्शन किया जाएगा।

अल्मोड़ा — सोमवार को 6 नये कोराना (corona)पॉजिटिव केस, संख्या पहुंची 2291

इस दौरान मोहन पाठक ने कहा कि यह दुर्भाग्य है कि राज्य बनने के 20 साल बाद भी अस्कोट समेत पहाड़ के सभी जगहों पर स्वास्थ्य सेवा और अन्य बुनियादी सेवाओं का बुरा हाल (badhal sawasth sevao) है। नाममात्र के अस्पतालों में न डाॅक्टर हैं, न फार्मासिस्ट व अन्य स्टाफ और न ही ढंग की दवाएं मिलती हैं। जो लोग अब तक सत्ता में बैठे उन्होंने पहाड़ की घोर अनदेखी की और राज्य निर्माण के सपनों को चकनाचूर कर दिया।

पाठक ने कहा कि लोगों को अपनी बुनियादी सुविधाओं के लिए एक बार फिर से उत्तराखंड आंदोलन जैसी लड़ाई लड़ने की जरूरत है। कार्यक्रम को डीडीहाट से पूर्व विधायक प्रत्याशी प्रदीप पाल ने भी संबोधित किया।

मनोरमा डबराल जन कल्याण समिति अल्मोड़ा ने कोरोना संक्रमण (corona awarness) पर की जन-जागरूकता

धरने में राज्य आंदोलनकारी बृज पाल, गोविंद रावत, पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष तरुण पाल, तनुज पाल, त्रिलोक बिष्ट, जीवन धामी, विक्रम पाल, दिनेश पाल, गोविंद पाल, जय बहादुर पाल, हरीश पंत, बहादुर बिष्ट, रूप सिंह भंडारी, होशियार सिंह पाल, राजेन्द्र बोरा, हिमांशु चुफाल, आशा पाल, योगेंद्र पाल, अजय अवस्थी आदि मौजूद थे।

अपडेट खबरों के लिए हमारे youtube चैनल को सब्सक्राइब करें