News-web

एक दिन की साप्ताहिक बंदी के विरोध में व्यापारियों (shopkeepers) ने ईओ के माध्यम से उपजिलाधिकारी को भेजा ज्ञापन

Updated on:

shopkeepers protest against weekly off in kashipur

मोहम्मद इकराम, (महुआखेड़ागंज) काशीपुर। प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल से जुड़े व्यापारियों shopkeepers ने क्षेत्र में साप्ताहिक बंदी का विरोध करते हुए निवर्तमान व्यापार मंडल अध्यक्ष इशाक अहमद के नेतृत्व में एकत्रित होकर पालिका दफ्तर पहुंचकर ईओ के माध्यम से उपजिलाधिकारी के नाम ज्ञापन सौंपा हैं।

ज्ञापन में कहा गया है कि साप्ताहिक बंदी के नाम पर कुछ लोगों द्वारा अपने आप को व्यापार मंडल का पदाधिकारी बताकर आपस मे ही मीटिंग कर ली गई और व्यापारियों को इस बारे में अवगत तक नहीं कराया गया। साप्ताहिक बंदी के नाम पर क्षेत्र के व्यापारियों का उत्पीड़न किया जा रहा है और जबरदस्ती बाजार बंद करने को कहा जा रहा है व्यापारी नहीं चाहते कि सप्ताह में 1 दिन का अवकाश हो। साथ ही ज्ञापन में कहा गया है कि साप्ताहिक बंदी करने को लेकर किसी भी व्यापारी के साथ न तो बैठक की गई है और ना ही व्यापारियों से इस संबंध में कोई रायशुमारी की गई है जिसके चलते व्यापारी वर्ग में आक्रोश है।

ज्ञापन सौंपते हुए इशाक अहमद ने कहा कि कोरोना महामारी के चलते व्यापार ठप पड़ा है व्यापारियों की कमर पहले से ही टूटी पड़ी है उन्होंने कहा कि यदि सप्ताह में छुट्टी का 1 दिन मुकर्रर करना था तो प्रशासन और व्यापारियों के साथ मिलकर इस सम्बंध में खुली बैठक की जा सकती थी और सभी व्यापारी वर्ग व राजनीतिक संगठन के लोग एक निश्चित स्थान पर एकत्र होकर बैठक में इकट्ठा होकर प्रशासन के साथ बैठक कर सप्ताह में एक दिन की छुट्टी का दिन मुक़र्रर करते
वहीं इस मामले में पालिका के ईओ फईम खां ने व्यापारियों से कहा कि जिला प्रशासन की तरफ से शहरी क्षेत्रों में एक दिन की साप्ताहिक बंदी के आदेश है। पालिका इस मामले में दखल नहीं दे सकती बल्कि सभी व्यापारी वर्ग को इस मामले में आपसी सहमति ओर रायशुमारी करके क्षेत्र में इस नियम को मानना चाहिए पालिका सिर्फ इस मामले में हस्तक्षेप ही करा सकती है।


वहीं कुछ व्यापारियों ने शुक्रवार की जगह शनिवार के दिन साप्ताहिक बंदी करने की बात कहीं। ज्ञापन देने वालों में व्यापारी नेता सलीम अंसारी, मुनीर अहमद, निसार अहमद , अरुण केशव, इकबाल, नसीम मलिक, अभिषेक कुमार, अब्बास अली, रजा, आदि लोग मौजूद रहे।