shishu-mandir

पत्रकार योगेश की संदिग्ध हालात में हुई मौत की जांच की मांग,सौंपा ज्ञापन

उत्तरा न्यूज डेस्क
2 Min Read
Screenshot-5

new-modern
gyan-vigyan

पिथौरागढ़। जनपद के पत्रकारों ने संदिग्ध परिस्थितियों में हुई पत्रकार योगेश पाठक की मौत की जांच की मांग की है। पर्वतीय पत्रकार एसोसिएशन ने मंगलवार को पुलिस अधीक्षक लोकेश्वर सिंह को इस संबंध में एक ज्ञापन सौंपा है। पत्रकारों ने कहा है कि योगेश पाठक की 14 नवंबर को संदिग्ध परिस्थितियों में जौलजीबी में मौत हो गई थी। दिवंगत पाठक के परिजनों ने भी उनकी मौत की परिस्थितियों को लेकर संदेह जताते हुए अस्कोट थाने में शिकायत दी है। ऐसे में पर्वतीय पत्रकार एसोसिएशन और अन्य पत्रकारों ने एसपी से पत्रकार योगेश की मौत के मामले की गहन जांच की मांग की है। ताकि परिजनों के साथ ही पत्रकारों में पैदा हो रहा संदेह भी दूर हो सके।

saraswati-bal-vidya-niketan

ज्ञापन देने वालों में संगठन के अध्यक्ष विजयवर्धन उप्रेती, महासचिव भक्त दर्शन पांडे, संरक्षक प्रेम पुनेठा, दीपक गुप्ता, विपिन गुप्ता, राकेश पंत, राजेश पंगरिया, मनीष चौधरी, दीपक कापड़ी, पंकज पाठक, प्रकाश पांडे,यशवंत महर आदि आदि शामिल थे।मुख्यमंत्री राहत कोष से मिले आर्थिक मदद पिथौरागढ़। दिवंगत पत्रकार योगेश पाठक को आर्थिक मदद प्रदान किए जाने के लिए पत्रकारों ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा है।

पर्वतीय पत्रकार एसोसिएशन ने जिलाधिकारी रीना जोशी के माध्यम से भेजें ज्ञापन में कहा है कि विगत 14 नवम्बर को जौलजीबी मेले की कवरेज के दौरान पत्रकार योगेश पाठक की संदिग्ध परिस्थितियों में पहाड़ी से गिरकर मौत हो गई थी। वह बीते 15 सालों से विभिन्न समाचार पत्रों और न्यूज़ चैनल में काम कर रहे थे।

दिवंगत पाठक अपने पीछे मां के साथ ही 3 छोटे भाइयों को छोड़ गए हैं। इन चारों परिजनों का भरण पोषण भी योगेश पाठक ही कर रहे थे। ऐसे में उनकी मौत से परिजनों के लिए भी आर्थिक रूप से समस्या खड़ी हो गई है। एसोसिएशन ने प्रभावित परिवार को आर्थिक मदद के रूप में मुख्यमंत्री राहत कोष से 10 लाख रुपये दिए जाने की मांग की है।