News-web

जानिए लोकसभा चुनाव में आखिरकार अमेठी से स्मृति ईरानी को चुनौती देने वाला कौन सा है यह खास चेहरा

Published on:

लोकसभा चुनाव 2024 के लिए सभी की निगाहें उत्तर प्रदेश की अमेठी लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र पर भी टिकी हुई है। करीब दो दशक के बाद ऐसा हुआ है जब अमेठी के चुनावी संग्राम में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की ओर गांधी परिवार के बजाय कोई और चुनावी मैदान में आया है।

अमेठी से कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी की स्मृति ईरानी के मुकाबले किशोरी लाल शर्मा को प्रत्याशी बनाया है। अमेठी में दोनों दल अपनी ओर से चुनाव प्रचार में लगे हुए है। इसी बीच के एल शर्मा की बेटी अंजलि भी अपने पिता के साथ चुनाव के प्रचार प्रसार में उतर आए हैं। यह जानकारी खुद केएल शर्मा ने सोशल मीडिया पर दी। उन्होंने कहा मेरी बिटिया अंजलि को प्यार करते अमेठी के लोग,हमारे परिवार का असली घर अमेठी है।

एक अन्य पोस्ट में शर्मा ने लिखा- विधान सभा क्षेत्र के डीह ब्लाक में महिलाओ से मुलाकात व संवाद करती मेरी बेटियो अंजलि शर्मा को मिले आपार स्नेह और आशीर्वाद का ऋणी रहूँगा। शर्मा ने लिखा- गांव देहात के सम्मानित लोगों के साथ मेरी बिटिया अंजली शर्मा ने मेरे चुनाव प्रचार की कमान संभाली।

आपको बता दे की शर्मा 1983 के आसपास राजीव गांधी के साथ पहली बार अमेठी आए थे। तब से वह यही कि होकर रह गये। 1991 में जब राजीव गांधी की मौत के बाद इंदिरा गांधी परिवार ने यहां से चुनाव लड़ना बंद किया तो शर्मा कांग्रेस पार्टी के सांसद के लिए काम करते रहे।

रायबरेली से सोनिया गांधी के सांसद चुने जाने के बाद उनके प्रतिनिधि के रूप में कार्य करते रहे। यूपी की वीआईपी सीटों में शुमार अमेठी से वर्ष 1999 में सोनिया गांधी ने अपना पहला चुनाव लड़ा था। बाद में उन्होंने वर्ष 2004 में यह सीट राहुल गांधी के लिए छोड़ दी। राहुल गांधी 2004, 2009, 2014 में चुनाव जीत गए लेकिन, वह 2019 में भाजपा की स्मृति ईरानी से चुनाव हार गए।