Join WhatsApp

News-web

वृंदावन: अक्षय तृतीया के मौके पर बांके बिहारी मंदिर की गाइड लाइन हुई जारी, इन लोगों को ना आने की दी जा रही है सलाह

Published on:

वृंदावन में अक्षय तृतीया पर बांके बिहारी मंदिर ने गाइडलाइन जारी की है। यहां आने से पहले आप इसे जरूर पढ़ें। बुजुर्ग,दिव्यांग और बच्चों को यहां ना आने की सलाह दी जा रही है।

तीर्थ नगरी मथुरा के वृंदावन में श्री बांके बिहारी मंदिर प्रबंधन ने भीड़ को लेकर एडवाइजरी जारी की है। दरअसल शुक्रवार को अक्षय तृतीया का पर्व है। ऐसे में लाखों श्रद्धालु यहां आते हैं प्रबंधन श्रद्धालुओं के वृंदावन आने से पहले भीड़ और मार्गों की सही स्थिति जानने की सलाह दी है और यह भी कहा गया है कि बुजुर्ग,दिव्यांग और छोटे बच्चे, बीमार स्वांस के रोगी आदि यहां ना आए।

बांके बिहारी मंदिर के प्रबंधक मनीष कुमार शर्मा ने एडवाइजरी जारी की है कहा कि दर्शनार्थी मंदिर प्रबंधन और पुलिस प्रशासन द्वारा बनाए गए वनवे रूट चार्ट पर चलें।  नियमों का पालन करें। मंदिर आते समय श्रद्धालु कीमती सामान, आभूषण अपने साथ न लाएं। मंदिर परिसर के समीप जूता चप्पल रखने की कोई व्यवस्था नहीं है। जूता चप्पल मंदिर के प्रवेश मार्गों से पहले तिराहे-चौराहों पर बने निशुल्क जूता घरों में उतारकर ही मंदिर आएं।

मंदिर में जेबकतरों, चैन कतरों, मोबाइल चारों आदि से सतर्क भी रहे। मंदिर में आने वाले बुजुर्ग एवं बच्चों की जेब में नाम पता और फोन नंबर की पर्ची जरूर लिख कर रख दें ताकि परिजन से बिछड़ने के बाद वह उन्हें पुनः मिल सके। दर्शनार्थियों के लिए खोया पाया केंद्र मंदिर कार्यालय एवं बांके बिहारी पुलिस चौकी पर बनाया गया है। श्रद्धालु किसी भी संदिग्ध गतिविधियां वस्तु की सूचना पास में खड़े सुरक्षाकर्मी या पुलिस चौकी में अवश्य दें।

मंदिर प्रबंधन ने श्रद्धालुओं को सलाह दी है कि मंदिर के रास्ते, उसके अंदर खड़े होकर सेल्फी न लें। मार्ग अवरुद्ध न करें। मंदिर में दर्शन करने के बाद अनाश्यक रूप से मंदिर परिसर में खड़े न हों। दर्शन के बाद निकास द्वार से बाहर निकलें। ताकि अन्य श्रद्धालुओं को भी ठा. बांकेबिहारी महाराज के दर्शन का लाभ हो सके।