Ultimate Kho-Kho League-3.90 करोड़ रुपये में हुआ 245 खिलाड़ियों का चयन

Newsdesk Uttranews
4 Min Read

सीज़न एक की शानदार सफलता के बाद, Ultimate Kho-Kho League 24 दिसंबर 2023 और 14 जनवरी 2024 के बीच कटक में अपने दूसरे संस्करण (सीज़न -2) के साथ वापसी के लिए तैयार है। अल्टीमेट खो-खो लीग सेकेंड सीजन के लिए तैयारियां शुरू हो गई है।

Ultimate Kho-Kho League दूसरे सीजन के लिए खि​लाड़ियों का चयन कल यानि 21 नवंबर को ओडिसा की राजधानी भुवनेश्वर में किया गया। यह प्रतियोगिता 24 दिसंबर से 14 जनवरी तक आयोजित होगी। कल खो-खो लीग के सेकेंड सीजन के लिए 3.90 करोड़ रुपये में 245 खिलाड़ियों का चयन किया गया।


ओडिशा जगरनॉट्स, चेन्नई क्विक गन्स, गुजरात जायंट्स, मुंबई खिलाड़ी, राजस्थान वॉरियर्स और तेलुगु योद्धा इन छह फ्रेंचाइज़ियों ने खो-खो खिलाड़ियों का चयन किया। ए श्रेणी में 30 खिलाड़ियों को 6-6 लाख रुपये, बी श्रेणी में 36 खिलाड़ियों को 5-5 लाख रुपये, श्रेणी सी में 55 खिलाड़ियों को 3-3 लाख रुपये, श्रेणी डी में 24 खिलाड़ियों को 1.5 लाख रुपये में चुना गया है।3.90 करोड़ रुपये में 245 खिलाड़ियों का चयन किया गया। जबकि फ्रेंचाइजियों ने 18 खिलाड़ियों को रिटेन किया है।


जो खिलाड़ी Ultimate Kho-Kho League
सीज़न 1 का हिस्सा थे लेकिन उन्हें बरकरार नहीं रखा गया था उन्हें पोल प्लेयर्स के रूप में जाना जाता है।लीग ने नई प्रतिभाओं को ड्रीम प्लेयर श्रेणी में रखकर उन्हें मंच प्रदान किया। फ्रेंचाइजी या भारतीय खो खो महासंघ द्वारा अनुशंसित खिलाड़ियों के नए समूह को ड्रीम प्लेयर्स कहा जाता है।

गत चैंपियन ओडिशा जगरनॉट्स ने पिछले सीज़न के चार खिलाड़ियों को बरकरार रखा, जबकि चेन्नई क्विक गन्स ने तीन खिलाड़ियों को बरकरार रखा, जिनमें प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट रामजी कश्यप और यंग प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट मदन शामिल थे। इस बीच, गुजरात जायंट्स ने टूर्नामेंट के डिफेंडर अभिनंदन पाटिल समेत दो अन्य को अपने साथ ही रखा है। मुंबई खिलाड़ी ने पिछले सीज़न के दो खिलाड़ियों गजानन शेंगल और श्रीजेश एस को रिटेन किया है।अन्य दो टीमों, राजस्थान वॉरियर्स और तेलुगु योद्धाओं ने तीन-तीन खिलाड़ियों को रिटेन किया है।


भारतीय खो-खो महासंघ के अध्यक्ष सुधांशु मित्तल ने कहा, Ultimate Kho-Kho League
ने उस खेल को अंतरराष्ट्रीय पहचान दिलाई है जो पहले ग्रामीण क्षेत्रों या समुदायों से संबंधित था। आज इसने लोकप्रियता हासिल कर ली है और इस खेल की बदौलत खिलाड़ियों को नौकरियां, पुरस्कार और कॉलेजों में दाखिला मिल रहा है।सुधांशु मित्तल ने कहा कि इस खेल को जल्द ही अंतरराष्ट्रीय पहचान मिलेगी।”उन्होंने कहा, “आज ड्राफ्ट इवेंट में मुझे ऐसा लगा जैसे खो-खो का सपना सच हो गया है।कहा कि इस साल हमने ड्राफ्ट में पैसा नहीं बढ़ाया लेकिन तीसरे सीज़न से हम नीलामी शुरू करेंगे। इससे खेल का महत्व बढ़ेगा और खिलाड़ियों को अधिक पैसे मिलेंगे।


सुधांशु मित्तल ने कहा Ultimate Kho-Kho League के दूसरे सीज़न का उद्देश्य प्राचीन भारतीय खेल में नई जान फूंकना है। इस रोमांचक यात्रा को जारी रखते हुए, आगामी सीज़न और भी अधिक उत्साह और प्रतिभा का वादा करता है।

Joinsub_watsapp