Join WhatsApp

News-web

दसवीं कक्षा में 95% से भी ज्यादा नंबर लाने पर संतुष्ट नहीं हुई छात्रा, फांसी लगाकर की आत्महत्या

Updated on:

यूपी के फतेहपुर से एक बेहद सनसनीखेज मामला सामने आ रहा है, यहां 2024 की हाई स्कूल बोर्ड परीक्षा में मेधावी छात्रा ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।परिजनों ने बिना पुलिस को सूचना दिए मंगलवार को उसके शव का अंतिम संस्कार भी कर दिया। बताया जा रहा है कि जिला टॉपर बनने से छात्रा एक नंबर से चूक गई थी जिसकी वजह से वह काफी दुखी थी और इसे लेकर वह काफी गुमसुम भी दिखाई दे रही थी ।

ये घटना जाफरगंज क्षेत्र के पांडेपुर गांव का है। जहां योगेंद्र सिंह की 16 साल की बेटी साक्षी पास के ही फिरोजपुर के कृष्णा इंटर कॉलेज में 10वीं की छात्रा थी। इस साल हुए हाई स्कूल की परीक्षा में उसके 95.3 फ़ीसदी से अधिक नंबर आए थे। लेकिन वह एक अंक कम होने से जिला टॉप की लिस्ट में नहीं आ पाई थी हालांकि इसके बावजूद बेटी की कामयाबी से पूरा परिवार काफी खुश था। बेटी का स्कूल में स्कूल मालाओं से स्वागत भी किया गया था। अखबारों में उसकी फोटो भी छपी  स्कूल से उसे सम्मानित भी किया गया लेकिन एक नंबर का करने की वजह से वह काफी परेशान थी।

बताया जा रहा है कि साक्षी बचपन से ही पढ़ने में होशियार थी। मेरिट लिस्ट में नाम ना आने की वजह से वह काफी उदास हो गई थी।

बताया जा रहा है सोमवार रात करीब 9:00 बजे जब घर के लोग सो गए तो उसने बगल में बने पशु बाड़े में स्थित नीम के पेड़ पर लटक कर जान दे दी। अगली सुबह जब मां वहां पहुंची तो बेटी को फंदे से लटकता हुआ देखकर वह चीखने चिल्लाने लगी। परिजनों ने शव को नीचे उतरा और ले जाकर उसका अंतिम संस्कार भी कर दिया। छात्रा के बहनोई राम प्रकाश का कहना है कि साक्षी पढ़ने में अच्छी थी वह इंटर में और अधिक मेहनत करते हुए बायोलॉजी की पढ़ाई करना चाहती थी।

पिछले कई महीनो से वह बीमार भी थी और उसका इलाज भी चल रहा था। साक्षी ने आत्महत्या क्यों की इसकी जानकारी नहीं है। उधर होनहार बेटी के खुदकुशी कर लेने से उसके पिता काफी दुखी हो गए हैं और उनकी तबीयत भी बिगड़ गई है। उन्हें भी अचानक अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उनका इलाज चल रहा है। बेटी की मौत से परिजन काफी दुखी हैं।