shishu-mandir

कलियुग में भागवत (Bhagwat katha)श्रवण सबसे बड़ा पुण्य:शास्त्री राजेन्द्र जोशी

uttra uttra
1 Min Read
Screenshot-5

new-modern
holy-ange-school

Listening to Bhagwat katha is the biggest virtue in Kaliyuga: Shastri Rajendra Joshi

अल्मोड़ा, 05 नवंबर— बख्सीखोला अल्मोड़ा में अरोमा ऑटोमोबाइल प्रतिष्ठान में संगीतमय श्रीमद भागवत कथा(Bhagwat Katha) जारी है। संगीतय कथा के दौरान कथा श्रवण करने बड़ी संख्या में क्षेत्रवासी पहुंच रहे हैं।

gyan-vigyan

शनिवार को भागवत कथा(Bhagwat Katha) के दौरान कथा व्यास शास्त्री राजेश चन्द्र जोशी ने कहा कि कलियुग में भगवान नाम स्मरण सबसे बड़ी आराधना है तो भागवत कथा श्रवण के पुण्य से सभी पाप धुल जाते हैं। उन्होंने कई रोचक प्रसंगों के माध्यम से भागवत कथा के महात्म्य उपस्थित कथा स्रोताओं के सामने रखा।

Bhagwat katha


कथा आयोजक प्रभा जोशी ने बताया कि कथा का समापन सोमवार 6 नवंबर को हवन और पूर्णाहुति के बाद दोहपर 12 बजे से भंडारे का आयोजन किया जायेगा। उन्होंने समस्त क्षेत्रीय जनता से इस कार्यक्रम में उपस्थित होकर कथा(Bhagwat Katha) श्रवण लाभ और भंडारे का प्रसाद ग्रहण करने की अपील की है।