News-web

जाने आखिर 2 जुलाई से पहले क्यों नहीं लौटेगी बाजार की रौनक? क्यों होगा 100 करोड़ का नुकसान जब होगा 63 दिन का ब्रेक

Published on:

आगामी 2 महीने के लिए शादी ब्याह के सीजन पर अब ब्रेक लग गया है। इसकी वजह से सागर जिले में व्यापार काफी प्रभावित हो रहा है। मई और जून में शादी विवाह के मुहूर्त ना होने के कारण सर्राफा वह अन्य बाजारों में रौनक भी नहीं दिख रही है।

शादी विवाह में धूम धड़ाका के साथ बाजारों की रौनक बनी रहती है। लोग जमकर खरीदारी करते हैं जिससे होटल, शोरूम, बैंक्विट हॉल के व्यापार से लेकर सर्राफा व अन्य बाजारों में भी काफी भीड़ भाड़ रहती है लेकिन शादी का सीजन नहीं होने पर हर जगह सन्नाटा छाया रहता है। इस साल 29 अप्रैल को शादी विवाह के मुहूर्त के बाद अब 2 महीने के लिए ब्रेक लग गया है। यानी मई और जून में कोई शादी नहीं होगी। इसके कारण सागर जिले में 100 करोड़ का व्यापार प्रभावित होने की संभावना है। आगामी 63 दिनों तक शादी के मुहूर्त नहीं होने से शहनाई की गूंज सुनाई नहीं देगी।

बुंदेलखंड पंचांग के अनुसार शुक्र तारा 29 अप्रैल को अस्त हो गया है। अक्षय तृतीया पर गुरु व शुक्र दोनों अस्त होने से अब किसी भी पंचांग में विवाह मुहूर्त नहीं है। अब अगले 2- 3 जुलाई के बाद 9, 11, 12, 13 एवं 15 जुलाई को विवाह के मुहूर्त हैं। यानी दो महीने तक शादी-विवाह के कार्यक्रम नहीं होंगे।

सैकड़ों शादियों से बाजार को लाभ

बताया जा रहा है कि दो माह से अधिक समय तक विवाह नहीं होने से कारोबार पर काफी असर पड़ सकता है। शादियों में किराना ज्वेलर्स, कपड़ा, कैटरिंग, होटल, वाहन से लेकर छोटे-छोटे कारोबारियों तक को लाभ होता है। यहां तक कि इससे जुड़े मजदूर वर्ग को भी काम मिलता रहता है, जो अगले दो महीने तक नहीं हो सकेगा। सर्राफा एसोसिएशन के जिला अध्यक्ष विक्रम सोनी ने बताया कि कि दो माह में तकरीबन 800 से 1000 शादियां सागर में हो जाती हैं। यदि ओवरऑल कारोबार का आकलन किया जाए तो यह करीब 100 करोड़ तक पहुंचेगा। इसमें सर्राफा का बड़ा वर्ग सबसे अधिक प्रभावित होगा।