उत्तराखंड के  चमोली त्रासदी (Disaster)के बाद प्रदेश के लिए मदद जुटाने के उद्देश्य से ‘देवभूमि के साथ देश’ कार्यक्रम एक निजी चैनल की ओर से  रविवार को आयोजित किया गया।

देहरादून,15 फरवरी 2021-उत्तराखंड के  चमोली त्रासदी (Disaster)के बाद प्रदेश के लिए मदद जुटाने के उद्देश्य से ‘देवभूमि के साथ देश’ कार्यक्रम एक निजी चैनल की ओर से  रविवार को आयोजित किया गया।

Disaster
Pc- credit news 18


इस कार्यक्रम में समाज के विभिन्न क्षेत्रों में काम करने वाले कई  दिग्गज शामिल हुए। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, पूर्व सीएम हरीश रावत, पूर्व सीएम और केंद्रीय शिक्षा मंत्री डा. रमेश पोखरियाल निशंक ने प्राकृृतिक आपदा(Disaster) से निपटने के अपने अनुभव साझा किये।

Uttarakhand— अलग—अलग सड़क हादसों में 2 भाईयों समेत 3 की मौत, पढ़ें पूरी खबर

इस अवसर पर सीएम त्रिवेन्द्र रावत ने कहा कि आपदा (Disaster)के मामले सबसे जरूरी होता है समय रहते एक्शन में जुटना और चमोली में कई जिन्दगी बच पाईं क्योंकि रेस्क्यू ओपरेशन त्वरित ढंग से हो पाए। केन्द्रीय मंत्री रमेश पोखरियांल निशंक ने 2010 में आई आपदा(Disaster) के दौरान अपने अनुभवों को बताया। उन्होंने कहा तब पूरे प्रदेश में आपदा आई थी। ऐसे में उन्होंने हर प्रभावित इलाके में खुद पहुचने की कोशिश की। पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा कि केदरनाथ आपदा के बाद उनके सामने दोबारा से व्यवस्था बनाने की चुनौती थी।

पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा सीएम त्रिवेन्द्र रावत ने चमोली हादसे में एक्टिव रोल निभाया, हादसे को हुए एक हफ्ता हो चला है और अभी भी बचाव काम चल रहे हैं।


कार्यक्रम में  उन सभी लोगों को भी सलाम किया गया जिन्होंने मुश्किल हालात में अपनी जान पर खेलकर लोगों की जान बचाई। कहा कि इन मददगारों ने यह  संदेश दिया  कि आपदा की इस घड़ी में पूरा देश उनके साथ खड़ा है।

कार्यक्रम में उत्तराखंड सरकार के प्रवक्ता और कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक के अलावा यूपी के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या, दतिया से मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा, जयपुर से राजस्थान के संस्कृति मंत्री बी.डी. कल्ला और पटना से बिहार के पर्यावरण मंत्री नीरज कुमार बबलू ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराई ।


  कार्यक्रम में उत्तराखंड के मशहूर गायक नरेंद्र नेगी के अलावा उत्तराखंड के  जाने माने अभिनेता हेमंत पांडेय, अभिनेत्री हिमानी शिवपुरी और सुनीता रजवार ने मुंबई से जुड़ीं।

कार्यक्रम में पर्वतारोही लवराज सिंह, पर्यावरणविद डॉक्टर प्रमोद कांत, मौसम विज्ञानी के. सिद्धार्थ और डिजास्टर मैनेजमेंट एक्सपर्ट अंजलि क्वात्रा भी जुड़ीं। साथ ही उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार ने भी अपने अनुभव और त्रासदी के सबक साझा किये। कार्यक्रम में उन लोगों को सलाम किया गया जो मदद करते हुए देवदूत की भूमिका निभाते दिखाई दिए। साथ ही जिन्होंने इन विपरीत परिस्थितियों में लोगों को मौत के मुंह से निकाला। 

उत्तरा न्यूज के वीडियो अपडेट्स के लिए इस लिंक को सब्सक्राइब करें

https://youtube.com/channel/UCq1fYiAdV-MIt14t_l1gBIw