shishu-mandir

भर्ती घोटाला— युवाओ पर लाठीचार्ज पर राज्य में चौतरफा गुस्सा

Newsdesk Uttranews
2 Min Read
Screenshot-5

पिथौरागढ़। विभिन्न परीक्षाओं में पेपर लीक और धांधलियों की निष्पक्ष जांच की मांग को लेकर देहरादून में आंदोलनरत छात्र छात्राओं को बुधवार रात पुलिस के बलपूर्वक उठाने तथा बदसलूकी किए जाने को लेकर पिथौरागढ के छात्र युवा और नागरिक समाज में आक्रोश व्याप्त है।

new-modern
gyan-vigyan


जनमंच पिथौरागढ़ के संयोजक भगवान रावत ने कहा है कि कल जिस तरह का बर्ताव पुलिस ने शांतिपूर्ण आंदोलन कर रहे छात्र छात्राओं के साथ किया है, वह घोर निंदनीय है। कहा कि यह छात्र युवाओं के प्रति राज्य सरकार के रवैये को साफ तौर पर दिखाता है। रावत ने कहा कि अगर ऐसा ही बर्ताव जारी रहता है और उनकी मांग पूरी नहीं होती है तो पिथौरागढ़ के सजग नागरिक भी इस आंदोलन में कूदेंगे।

saraswati-bal-vidya-niketan


पिथौरागढ़ महाविद्यालय के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष राकेश जोशी ने कहा कि अब तक मामला सीबीआई को नहीं सौंपा गया है। यह सबूत है कि धामी सरकार नये व पुराने आरोपियों को बचाने में लगी है। चाहे दिन रात लगकर परीक्षा की तैयारी करने वाले छात्र युवाओं का भविष्य ही क्यों न बर्बाद हो जाए।


पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष महेंद्र रावत ने सवाल उठाया है कि आखिर नकल विरोधी कानून बनाने और आरोपियों को जांच के बाद कारावास भेजने की मांग में गलत क्या है। उन्होंने कहा कि इन वाजिब मांगों का पूरा न होना सरकार और नकलचियों की मिलीभगत को दर्शाता है।