News-web

जंगलों में भड़कती आग को देखते हुए सीएम धामी ने ली अहम बैठक , अधिकारियों को दिए निर्देश

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने वनाग्नि की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए एक अहम बैठक का अयोजन किया। सीएम धामी दिल्ली से ही वीसी पर जुडे और उन्होंने वन विभाग की कार्ययोजना की समीक्षा की। देहरादून सचिवालय में शासन के आला अधिकारी इस बैठक में मौजूद रहे। मुख्यमंत्री धामी ने अधिकारियों को जरूरी दिशा निर्देश दिए।

बता दें उत्तराखंड में शुक्रवार को जंगलों में लगी आग ने विकराल रूप ले लिया। 24 घंटे के अंदर वनाग्नि की 64 घटनाएं सामने आई। वहीं, सोमेश्वर के स्यूनराकोट के जंगल में लगी आग दो नेपाली परिवारों पर भारी पड़ी है। जंगल की आग की चपेट में आने से एक श्रमिक की बृहस्पतिवार को मौके पर ही मौत हो गई थी।दूसरे श्रमिक ने बृहस्पतिवार देर रात बेस अस्पताल में तो महिला श्रमिक ने हल्द्वानी के सुशीला तिवारी अस्पताल (एसटीएच) में दम तोड़ दिया है। एक और महिला श्रमिक का हल्द्वानी में उपचार दिया जा रहा है।

शुक्रवार को प्रदेश में सामने आई वनाग्नि की 64 घटनाओं में गढ़वाल में 30, कुमाऊं में 29 और वन्यजीव क्षेत्रों में पांच घटनाएं शामिल हैं। 24 घंटे के भीतर 74.67 हेक्टेयर जंगल आग की चपेट में आया।मुख्य सचिव ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा है कि वनाग्नि को रोकने के लिए स्थानीय लोगों की मदद बेहद जरूरी है साथ ही शासन यह भी अपील करता है कि कृपया जंगलों में आग न लगाए। विभाग के मुखिया धनंजय मोहन ने बताया है कि इस बार जो जंगल में आग लगने की घटनाएं प्रदेश में हुए वह सर्वाधिक हैं और इसमें कई बड़ी घटनाएं ऐसी भी हैं जो लोगो द्वारा लगाई गई हैं।

लोगों से अपील की जा रही है कि जंगलों में आग ना लगाए प्रदेश के ऐसे जिले जहां अभी तक अग्निकांड की घटनाएं नहीं घटित हुई है वहां पर भी वन क्षेत्र पर विशेष निगाह रखी जा रही है और मुख्यालय के अफसर को भी आज रवाना किया जा रहा है।