shishu-mandir

UP Police Paper Leak:यूपी एसटीएफ ने पकड़ा पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा लीक का मास्टरमाइंड

Smriti Nigam
3 Min Read
Screenshot-5

UP Police Paper Leak: यूपी एसटीएफ ने मोनू मालिक और कपिल तोमर को यूपी कांस्टेबल भर्ती परीक्षा लीक करने के मामले में पकड़ लिया है। पुलिस ने बताया कि यह उत्तराखंड में हुई भारती और रेलवे की ग्रुप डी की परीक्षा पेपर लिखकर मामले में पहले भी जेल जा चुके हैं।

UP Police Constable Bharti Paper Leak: यूपी एसटीएफ पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा के पेपर लीक मामले में अब पुलिस काफी गहराई में जाकर सबूत ढूंढ रही है। एसटीएफ ने असल गुनहगारों को पकड़ने के लिए जांच शुरू कर दी है और अब अपनी दिशा को थोड़ा बदल दिया है। यूपी एसटीएफ उम्मीदवारों से पैसे लेकर पेपर देने वाले गैंग के रिवर्स नेटवर्क को खंगाल रही है ताकि पेपर लीक मामले में असली गुनहगार तक आसानी से पहुंचा जा सके।

new-modern
holy-ange-school

बताया जा रहा है कि यूपी पुलिस कांस्टेबल भर्ती की लिखित परीक्षा का आयोजन 17 और 18 फरवरी को राज्य के सभी 75 जिलों में किया गया था। 17 फरवरी को दूसरी शिफ्ट की परीक्षा के दौरान गाजियाबाद में ब्लूटूथ के जरिए नकल कर रही उम्मीदवार रिया चौधरी को पकड़ लिया गया था। इसके अलावा पुलिस ने रिया को नकल करने वाले सॉल्वर गैंग के सदस्य गुरबचन को भी गिरफ्तार कर लिया था।

gyan-vigyan

एसटीएफ ने गुरबचन से पूछताछ की तो पता चला कि उसे पेपर कपिल तोमर और मोनू मलिक ने दिया था। इसके बाद यूपी एसटीएफ की टीम कपिल तोमर और मोनू मलिक के पीछे पड़ गई। इसके बाद यूपी एसटीएफ ने गाजियाबाद से कपिल तोमर को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में कपिल ने बताया कि मिंटू नाम के एक शख्स ने उसे पेपर बचने के लिए दिए थे। गुरुवार को एसटीएफ में मुजफ्फरनगर निवासी प्रवीण उर्फ मिंटू बालियान को शाहपुर से गिरफ्तार कर लिया।

यूपी एसटीएफ ने बताया कि मोनू मालिक और कपिल तोमर उत्तराखंड में हुई भर्ती और रेलवे डी ग्रुप परीक्षा में पेपर लीक मामले में पहले भी जेल जा चुके हैं। एसटीएफ की टीम अल गुनहगार तक पहुंचाने के लिए जांच में जुट गई है। सभी आरोपियों की गिरफ्तारी की जाएगी। पुलिस कांस्टेबल भर्ती पेपर लीक मामले में अब तक चार राज्य आपस में जुड़े हुए देखे जा रहे हैं। इसमें यूपी, बिहार, उत्‍तराखंड और हरियाणा से सीधा कनेक्‍शन सामने आया है।