News-web

ग्वालियर में रैगिंग से परेशान छात्र पहुंचे थाने,चिल्लाती धूप में बनाया गया मुर्गा और फाड़े गए कपड़े

Published on:

मध्य प्रदेश के ग्वालियर आयुर्वैदिक कॉलेज से एक रैगिंग का मामला सामने आया है। यहां सीनियर छात्रों ने फर्स्ट ईयर के स्टूडेंट्स को कड़कती धूप में घंटे तक मुर्गा बनाया  फिर उसके बाद उनके साथ मारपीट भी की।

बताया जा रहा है कि बच्चों ने इसकी शिकायत कॉलेज प्रबंधन से भी की थी लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। इसके बाद सभी एकजुट होकर थाने पहुंचे और शिकायत दर्ज करवाई।

सोमवार को कंपू थाना में आयुर्वेदिक कॉलेज के फर्स्ट ईयर कुछ छात्र पहुंचे। उन्होंने पुलिस को बताया कि हमारे सीनियर रोज हमारी रैगिंग करते हैं। हमसे मारपीट करते हैं। छात्रों का कहना है कि कालेज प्रबंधन भी उनके खिलाफ कोई एक्शन नहीं ले रहा। सोमवार को तो सीनियर्स ने हद कर दी जब उन्होंने जूनियर छात्रों को घंटे तक मुर्गा बनाया और जब इसका विरोध किया गया तो उन्होंने बेरहमी से उनकी पिटाई की और उनके कपड़े और जूते तक फाड़ दिए गए।

कॉलेज प्रबंधन ने बदनामी के डर से इस पर कोई कार्यवाही नहीं की। इसके बाद छात्र शिकायत दर्ज करवाने थाने पहुंचे। बीएमसी के छात्र ने थाने में चोट लगने के निशान और फटे हुए कपड़े भी दिखाएं जिससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि उनकी पिटाई की गई है। छात्र का कहना है कि उसे अपने दोस्तों की चिंता है क्योंकि उन्हें जान से मारने की धमकी भी दी जा रही है। छात्रों का कहना है की पिटाई और गाली गलौज का वीडियो भी किसी ने बनाया था जो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है।

आए दिन की जाती है मारपीट

पुलिस ने फिलहाल इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की है और जूनियर छात्रों से आवेदन ले लिया है। जूनियर छात्रों का आरोप है कि सीनियर आए दिन उनके साथ मारपीट कर रहे हैं। उन्होंने कुछ सीनियर छात्रों के नाम भी बताए हैं जो जूनियर छात्रों के साथ रैगिंग की घटना को अंजाम दे रहे हैं। रैगिंग पर वैसे तो प्रतिबंध है लेकिन आयुर्वैदिक कॉलेज सहित कुछ संस्थान ऐसे हैं जहां अभी भी रैगिंग ली जा रही है और संस्थान के जिम्मेदार लोग आंखें बंद करके बैठे हुए हैं। देखना ये होगा कि पुलिस इस पर क्या एक्शन लेती। सीएसपी अशोक जादौन ने कहा कि मामले में कार्रवाई जरूर की जाएगी।