Pithoragarh- धारचूला में काली नदी पर तटबंध निर्माण को लेकर भारत-नेपाल के अधिकारियों की हुई चर्चा

editor1
4 Min Read

धारचूला। भारत-नेपाल सीमा समन्वय समिति की बैठक जिलाधिकारी रीना जोशी की अध्यक्षता में धारचूला स्थित एनएचपीसी गेस्ट हाउस में बुधवार को आयोजित हुई। बैठक में भारत एवं नेपाल देश के विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे जिनके द्वारा विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गई। बैठक में धारचूला में काली नदी पर भारत देश की ओर से चल रहे तटबंध निर्माण कार्य को लेकर चर्चा हुई। नेपाल देश के अधिकारियों को जानकारी देते हुए जिलाधिकारी रीना जोशी ने नेपाल देश के अधिकारियों से कहा कि काली नदी पर तटबंध निर्माण कार्य माह जनवरी 2022 से चल रहा है और हम उसी कार्य को आगे बढ़ा रहे हैं। यदि तटबंध निर्माण से नेपाल देश की सीमा क्षेत्र को कोई नुकसान की संभावना है तो वह अवगत कराएं ताकि उसका समाधान निकाला जा सके।

इस पर नेपाल देश के अधिकारियों द्वारा तटबन्ध निर्माण क्षेत्र में काली नदी के बीच में पड़े मलबे को हटाए जाने की बात कही गई ताकि नदी चैनेलाइज हो जाए और मानसून सीजन में नदी का तेज बहाव नेपाल सीमा से जुड़े ग्रामों को नुकसान न पहुंचाएं। इस पर तटबंध निर्माण कर रहे भारत देश के अधिकारियों द्वारा कहा गया कि तटबंध निर्माण क्षेत्र में काली नदी से मलबा हटाने का कार्य तटबंध निर्माण के साथ-साथ किया जा रहा है। वहीं जिलाधिकारी रीना जोशी ने कहा कि भारत की ओर से तटबंध निर्माण कर रहे अधिकारियों द्वारा अगले 10 दिनों तक नियमित रूप से नदी से मलबा हटाने का कार्य किया जाएगा। किन्तु जिलाधिकारी द्वारा अपेक्षा की गई कि नेपाल देश की ओर से भी घटगांड़ क्षेत्र में काली नदी से मलबा हटाया जाए ताकि भारत के अधिकारियों को तटबंध निर्माण में सुविधा रहे और तटबंध निर्माण कार्य को आगे बढ़ाया जा सके। नेपाल देश के अधिकारियों द्वारा भी नेपाल देश की सीमा पर काली नदी से मलबा हटाने पर सहमति जताई गई। उन्होंने कहा कि नेपाल देश की ओर से भी काली नदी पर पर तटबंध और मलबा हटाने का कार्य अगले 10 दिनों बाद प्रारंभ कर दिया जाएगा। इस हेतु नेपाल देश की ओर से टेंडर प्रक्रिया कर ली गई है।

बैठक में 10 दिन बाद पुनः नेपाल और भारत देश के अधिकारियों की संयुक्त बैठक आयोजित किए जाने पर भी सहमति बनी ताकि इन विषयों पर पुनः चर्चा हो सके। वही बैठक में इस बात पर भी सहमति बनी कि भारत और नेपाल देश के इंजीनियरों की संयुक्त टीम गठित की जाएगी जो तटबंध निर्माण कार्य का निरीक्षण करेगी ताकि निर्माण कार्य से दोनों देशों के सीमा क्षेत्र को कोई क्षति न पहुंचे। वहीं जिलाधिकारी रीना जोशी द्वारा कुछ दिन पूर्व पथराव की घटना को लेकर अराजक तत्वों के विरुद्ध कार्रवाई की बात नेपाल देश के अधिकारियों से कही गई। जिस पर नेपाल देश के अधिकारियों ने आश्वस्त किया कि अराजक तत्वों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी तथा इस प्रकार की घटना की पुनरावृत्ति नहीं होने दी जायेगी। बैठक में नेपाल देश से सीडीओ दीर्घ राज उपाध्याय, एसपी डम्बर बिष्ट, डीएसपी तर्क राज पाण्डेय, भारत देश से एसपी पिथौरागढ़ लोकेश्वर सिंह, उप जिलाधिकारी धारचूला दिवेश शाशनी, ईई सिंचाई धारचूला फरहान खान आदि उपस्थित थे।