Join WhatsApp

News-web

कामी रीता ने बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड,एवरेस्ट पर 29वीं बार फतह हासिल करने वाले बने पहले व्यक्ति

Published on:

हिमालय की गोद में जब बर्फ की चादर फैली हुई रहती हैं वहां एक शेरपा है जिनका नाम है कामी रीता शेरपा।यह नाम सिर्फ एक पहचान नहीं बल्कि अब यह नाम एक साहस और धर्म संकल्प का प्रतीक भी बन चुका है, जिस पर्वत को दुनिया माउंट एवरेस्ट कहती है वहां कामी रीता के लिए अब एक घर जैसा हो गया है और इस घर की छत पर दुनिया की सबसे ऊंची चोटी पर कामी रीता 29वीं बार फतह हासिल करने वाले व्यक्ति बन गए हैं और उन्होंने ऐसा काम करके इतिहास रच दिया है।

यह कोई मामूली उपलब्धि नहीं है यह एक ऐसा कारनामा है जो इंसानी जज्बे और हिम्मत को दिखाता है। हर कदम पर मौत का खतरा, कड़ाके की ठंड, ऑक्सीजन की कमी और फिर भी कामी रीता का दृढ़ संकल्प किसी के सामने नहीं हारा। हर बार उन्होंने सागरमाथा की ऊंची चोटी को फतह कर लिया। मानो पहाड़ों से उनकी कोई पुरानी दोस्ती हो। कामी रीता का यह सफर सिर्फ एक व्यक्ति की कहानी नहीं है ये उन सभी शेरपाओं की कहानी है जो अपनी जान की बाज़ी लगाकर एवरेस्ट पर आने वाले लोगों की मदद करते हैं।

यह उन सभी लोगों की कहानी है जो अपने सपनों को हासिल करने के लिए किसी भी मुश्किल से घबराते नहीं है। सरकारी अधिकारियों ने खुद इस बारे में बताया है कि कामी रीता अब दुनिया के अकेले ऐसे व्यक्ति हैं जिन्होंने 29वें बार दुनिया की सबसे छोटी को फतह किया है।

सेवन समिट ट्रेक्स प्राइवेट लिमिटेड में वरिष्ठ पर्वतारोहण गाइड कामी ने मई 1994 में पहली बार माउंट एवरेस्ट पर चढ़ाई की थी। गुरगैन के अनुसार, 1994 से 2024 के बीच, कामी रीता ने माउंट एवरेस्ट पर 28 बार, माउंट के2 और माउंट ल्होत्से पर एक-एक बार, माउंट मनास्लु पर चार बार और माउंट चो ओयू पर आठ बार चढ़ाई की।