IAS

Two government hospitals could not even save the life of innocent Prem, broke before reaching Almora

अल्मोड़ा,02 जुलाई2020—प्रदेश के सरकारी स्वास्थ्य सुविधाओं की पोल एक बार फिर खुल गई. सात साल के मासूम को ​बीमार होने पर उसके परिजन दो-दो सरकारी अस्पताल(government hospital) ले गए लेकिन उसकी जान नहीं बच पाई.

बुधवार की रात बारह बजे वह अल्मोड़ा पहुंचे लेकिन डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.बागेश्वर जिले के डंगोली निवासी नवीन सिंह का सात वर्षीय पुत्र प्रेम बीमार हो गया.

उसकी तकलीफ देख मां बाप उसे पहले बैजनाथ और फिर बागेश्वर जिला अस्पताल ले गए लेकिन प्राथमिक उपचार के बाद उसे डाक्टरों ने उसे हायर सेंटर रैफर कर दिया.

गरीब माता पिता उसे गंभीर अवस्था में अल्मोड़ा जिला अस्पताल लाए जहां पहुंचते ही डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.मां बाप पर मानो बज्र गिर गया वह बदहवास हो गए लेकिन सिस्टम पंचनाम और पोस्टमार्टम की कार्रवाई में जुट गया.

मां को कई पुलिस कर्मी और स्थानीय लोग बामुश्किल समझा पाने में सफल हो पाए कि उसका प्राणों से प्यारा पुत्र अब इस दुनिया में नहीं रहा. नवीन सिंह की आर्थिक स्थिति भी काफी दयनीय है. पुत्र शोक के कारण वह भी बुरी तरह टूट चुका है.लेकिन सरकारी अस्पतालों (government hospital)की हकीकत एक बार फिर सामने आ गई है.

ताजा अपडेट के लिए हमारे यूट्यूब चैनल के इस लिंक को सब्सक्राइब करें

https://www.youtube.com/channel/UCq1fYiAdV-MIt14t_l1gBIw