News-web

सरकार बनने से पहले ही नीतीश कुमार ने चलाया अपना तीर,बोले अग्नि वीर स्कीम में होना चाहिए बदलाव

Published on:

लोकसभा चुनाव 2024 में भाजपा को पूर्ण बहुमत नहीं मिला है जिसके चलते नरेंद्र मोदी को अब नीतीश कुमार और चंद्रबाबू नायडू  के समर्थन से सरकार चलानी पड़ेगी। अब तक सरकार गठन को लेकर रूपरेखा तैयार नहीं हुई है लेकिन नीतीश कुमार की पार्टी पहले ही अपना दांव फेक चुकी है।

जदयू के प्रवक्ता केसी त्यागी ने गुरुवार को सेवा में जवानों की भर्ती के लिए बनी अग्नि योजना में बदलाव करने की मांग की। उन्होंने कहा अग्निवीर स्कीम का बहुत विरोध हुआ था और चुनाव में भी इसका असर देखने को मिला इसलिए अग्नि वीर स्कीम पर दोबारा सोचना चाहिए।

केसी त्यागी ने बातचीत के दौरान कहा की स्कीम जब आई थी तब लोगों को यह स्कीम अच्छी नहीं लगी थी।  सेना में तैनात लोगों के परिवार के लोग भी इससे नाराज थे। इसलिए इसमें बदलाव हो जाना चाहिए। वहीं समान नागरिक संहिता के मसले पर पूछा गया तो नीतीश कुमार की पार्टी ने कहा कि हम इसके समर्थन में हैं। लेकिन इसे लेकर हमारी मांग है कि सभी संबंधित पक्षों की इसमें राय ली जाए। इसके बाद ही और कोई फैसला लेना चाहिए

केसी त्यागी ने कहा कि यही हमारी सबसे पहली मांग है और हम इस बात पर कायम रहेंगे। वहीं एक देश एक चुनाव के मुद्दे पर समर्थन की बात भी कहीं। जेडीयू ने कहा कि हम इस मसले पर पहले भी साथ थे।बताया जा रहा है कि भाजपा को लोकसभा चुनाव में 240 सीटे मिली जबकि जदयू को 12 पर विजय हासिल हुई।

आंध्र प्रदेश की टीडीपी को 16 सीटे हासिल हुई। इन दोनों दलों के सहारे ही अब भाजपा सरकार बनेगी। बताया जा रहा है कि नरेंद्र मोदी 8 या फिर 9 जून को पीएम पद की शपथ ले सकते हैं। सरकार के गठन को लेकर दिल्ली में भाजपा के शीर्ष नेताओं की मीटिंग भी हो रही है।