Almora

almora nagar me paidal path v zebra crossing banae jae

अल्मोड़ा- 23 नवंबर 2020
अमन औ समनेट (संस्टैनेबल अर्बन मोबीलिटी नेटवर्क) की ओर से सार्वजनिक यातायात और पैदल यात्री अधिकार को लेकर अल्मोड़ा (Almora) नगरपालिका सभागार में ‘अल्मोड़ा में पैदल यात्री-समस्याएं और निराकरण’ विषय पर एक बैठक का आयोजन किया गया।

बैठक मेें पुलिस विभाग, पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों के साथ ही विभिन्न सामाजिक, राजनीतिक और छात्र संगठनों ने प्रतिभाग किया। सभी ने अल्मोड़ा (Almora) में पैदल यात्रियों की समस्या पर अपनी राय रखी और सड़क पर पैदल यात्रियों को पूर्ण सुरक्षा देते हुए पैदल पथ और व्यस्त क्षेत्रों में जेब्रा क्रासिंग बनाए जाने की जरूरत जताई।

कार्यक्रम से पहले नगरपालिका के पूरे सभागार को सेनेटाइज किया गया और सभी प्रतिभागियों को हैंड सेनेटाइजर, मास्क वितरण के बाद सोशल डिस्टेटिंग का पालन कराते हुए सभागार में प्रवेश दिलाया गया। (almora)

अब धर्म निरपेक्ष युवा मंच ने उठाई के खत्याड़ी के मनोज विहार में पेयजल (drinking water )की समस्या को दूर करने की मांग

बैठक में भाजपा, कांग्रेस, आप, उपपा, उत्तराखंड लोक वाहिनी और यूकेडी के प्रतिनिधियों के अलावा छात्र संघ, डे-केयर, पेंशनर एसोसिएशन, जिला मिष्ठान विक्रेता संघ के पदाधिकारियों व नगर पालिका के सभासदों के अतिरिक्त सिविल सोसायटी से कई लोग मौजूद थे। सभी ने एक स्वर में अल्मोड़ा (Almora) नगर में जेब्रा क्रासिंग और पैदल पथ बनाए जाने की मांग में उठाई।

AMAN

वक्ताओं ने कहा कि जिस तरह वाहनों की संख्या बढ़ रही है ऐसे में अल्मोड़ा (almora) के परिप्रेक्ष्य में केवल पार्किंग या सड़क निर्माण हल नहीं है। लोगों को सार्वजनिक यातायात के प्रति लोगों को प्रेरित करने के साथ ही उन्हें साधन उपलब्घ कराने होंगे। इसके लिए नगर में सिटी बस का संचालन एक बेहतर विकल्प है छोटी बसों को सिटी बस के रूप में संचालित किया जाना चाहिए।

कैसे परवान चढ़ेगा स्वच्छ भारत अभियान(Swachh Bharat Abhiyan), यहां शौचालय बनाने की मांग को लेकर भटक रही है गर्भवती महिला


इस मौके पर अमन संस्था के मुख्य समन्वयक रघु तिवारी ने कहा कि सड़क पर पहला अधिकार पैदल यात्रियों का है यदि इस बात को ध्यान में रख कर योजना बने तो कहीं भी कोई दिक्कत नहीं आएगी। क्योंकि सड़क पर फुटपाथ और व्यस्त क्षेत्रों में जेब्रा क्रासिंग बनाया जाय तो पैदल यात्रियों और स्कूली बच्चों को सड़क से गुजरने व सड़क पार करने में आने वाली समस्याएं काफी हद तक खत्म हो जाएंगी। (almora)

इस मौके पर पीडब्ल्यूडी से आए सहायक अभियंता डीसी पांडे ने कहा कि विभाग सड़कें सुरक्षित हो इसके लिए पूरा प्रयास करते रहा है। अल्मोड़ा (Almora) की माल रोड में जेब्रा क्रासिंग निर्माण के लिए प्रस्ताव भेजा गया है और अन्य जो समस्याएं भी इस बैठक में उठी हैं उससे उच्चाधिकारियों को अवगत कराया जाएगा।

पुलिस विभाग से आए यातायात प्रभारी जीएस हरड़िया ने कहा कि पुलिस प्रशासन सड़क पर यातायात को सुरक्षित और निर्बाध करने के लिए हमेशा प्रयासरत रहता है। इसके साथ ही सड़क किनारे वाहन खड़ा करने वालों के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाती रही है। भविष्य में भी सड़कें सुरक्षित रहें और उनके किनारे पैदल चलने वालों के काम आएं इसके लिए बैठक में आई बातों से उच्चाधिकारियों को अवगत कराया जाएगा। (almora)
आम आदमी पार्टी के वैभव जोशी ने कहा कि सड़क किनारे जिस बेतरतीबी से वाहन खड़े रहते हैं उनको हटाने की जिम्मेदारी प्रशासन को लेनी होगी। क्योंकि बाजार के व्यवस्त क्षेत्रों में वाहन खड़े रहने से पैदल यात्रियों और स्कूली बच्चों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी के केन्द्रीय अध्यक्ष पीसी तिवारी ने कहा कि व्यवस्थाओं को बनाना प्रशासन की जिम्मेदारी है इसलिए प्रशासन किसी अन्य दिक्कतों की बात कह कर इस जिम्मेदारियों से बच नहीं सकता। और लोग भी इस प्रकार की सकारात्मक पहल के लिए प्रशासन की ओर देखते हैं।

सामाजिक कार्यकर्ता आशीष जोशी ने भी पैदल यात्रियों के लिए सड़क पर पूर्ण सुरक्षा की व्यवस्था करने के साथ ही यातायात के नियमों का भी पूरा पालन कराने की जरूरत जताई। छात्रसंघ उपसचिव दीपक तिवारी ने कहा कि जब सड़क पर पहला अधिकार पैदल यात्रियों का है तो क्यों नहीं इस ओर पहल की जाती है। उन्होंने कहा कि अल्मोड़ा की सड़क में पैदल यात्रियों का गुजरना मुश्किल हो रहा है। उलोवा के पूरन चन्द्र तिवारी ने कहा कि आज यह पहली जरूरत बन गई है कि सड़क पर पैदल पथ हो और व्यस्ततम क्षेत्रों में जेब्रा क्रासिंग बनाई जाय।(almora)

दयाकृष्ण कांडपाल ने कहा कि जब सुप्रीम कोर्ट सड़कों को सुरक्षित बनाने की बात कह चुका है तो इस ओर प्रशासन को त्वरित कदम उठाने चाहिए। सेवानिवृत कर्मचारी नेता चन्द्रमणी भट्ट ने कहा कि जनता और सिविल सोसायटी की ओर से जो मांग आ रही है उस पर प्रशासन की ओर से जल्द कदम उठाए जाने चाहिए।
यूकेडी के उपाध्यक्ष ब्रह्मानंद डालाकोटी ने भी पैदल यात्रियों की समसया को एक ज्वलंत और जरूरी मुद्दा बताते हुए कहा कि जनहितों की अनदेखी कई बार नागरिकों पर भारी पड़ती है।
डे- केयर सेंटर के प्रताप सिंह सत्याल ने कहा कि हम कई वर्षों से पैदल पथ और जेब्रा क्रासिंग की मांग करते आ रहे हैं। इसके लिए प्रशासन को ज्ञापन भी दिया है लेकिन अभी तक इस संबंध में कोई कार्रवाई नहीं हुई है। उन्होंने सड़क के एक छोर पर दो फिट ऊंचा फुटपाथ बनाने की मांग उठाई।(almora)

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे पहरू के संपादक व कुमांउनी भाषा साहित्य समिति के सचिव डॉ. हयात सिंह रावत ने कहा कि संवाद और विमर्शों से ही समस्या का समाधान निकलता है। इसलिए इस प्रकार के कार्यक्रम आयोजित होते रहने चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि बैठक में जो मांगे आई हैं उन पर कार्रवाई भी होनी चाहिए। बैठक का संचालन नीलिमा भट्ट ने किया। उन्होंने पैदल यात्री अधिकार को लेकर अमन और समनेट की ओर से पिछले तीन साल से किए कार्यों की जानकारी दी।

बैठक को यूकेडी के केन्द्रीय उपाध्यक्ष ब्रहमानंद डालाकोटी, सेवानिवृत्त शिक्षिका आनंदी वर्मा, कांग्रेस नगर अध्यक्ष पूरन रौतेला, भाजपा नगर अध्यक्ष ग्रामीण ललित मेहता, जिला मिष्ठान विक्रेता संघ के जिलाध्यक्ष मनोज सिंह पंवार, दीप चन्द्र लोहनी, डा. जेसी दुर्गापाल आदि ने संबोधित किया।

कार्यक्रम में एलएस ऐठानी, एडवोकेट रमाशंकर नैलवाल, छात्रसंघ महासचिव नवीन कनवाल, नीरज भट्ट, डा. डीबी पांडे, कल्याण मनकोटी, पालिका सभासद विजय पांडे, सभासद अमित साह मोनू, डीके जोशी सहित विभिन्न संगठनों के पदाधिकारी और सिविल सोसायटी के लोग मौजूद थे।

अपडेट खबरों के लिए हमारे youtube चैनल को सब्सक्राइब करें