Leesa workers
Leesa workers

almora- Leesa workers ka dusre din bhi dharna jari rha

अल्मोड़ा, 23 नवंबर 2020
तीन सूत्रीय मांगों को लेकर प्रधान लीसा श्रमिक वेलफेयर सोसाइटी का अनिश्चितकालीन धरना—प्रदर्शन दूसरे दिन भी जारी रहा। लीसा श्रमिकों (Leesa workers) ने मांग पूरी नहीं होने पर वन संरक्षक कार्यालय में तालांबदी करने की चेतावनी दी है।

प्रधान लीसा श्रमिक (Leesa workers) वेलफेयर सोसाइटी की ओर से नगर के धार की तूनी स्थित वन संरक्षक, उत्तरी कुमाउं वृत्त के कार्यायल में बीते रविवार से अनिश्चिकालीन धरना—प्रदर्शन शुरू कर दिया है। लीसा श्रमिक दूसरे दिन भी अपनी तीन सूत्रीय मांगों को लेकर धरने पर अड़े रहे।

उत्तराखंड में कोरोना (corona) का आंकड़ा हुआ 71632, आज मिले 376 नये संक्रमित, 7 की मौत

इस दौरान वक्ताओं ने कहा कि वन सरंक्षक कुमाऊं द्वारा लीसा श्रमिकों से 2021 में फसल विदोहन कार्य में अनैतिक नियम लागू करने के लिए आदेश जारी किये है, जो लीसा श्रमिकों का दमन है। साथ ही वर्ष 2015 के अवशेष भुगतान विभाग द्वारा नहीं किये जाने पर भी नाराजगी जताई। उन्होंने निविदा प्रक्रिया मन माने नियमों का विरोध जताया। कहा कि वन विभाग द्वारा वेवजह नये निविदा प्रक्रिया में आदेश जारी किये गये है। उनकों जल्द वापस लेने की मांग की।

कैसे परवान चढ़ेगा स्वच्छ भारत अभियान(Swachh Bharat Abhiyan), यहां शौचालय बनाने की मांग को लेकर भटक रही है गर्भवती महिला

वक्ताओं ने कहा कि जब तक मांगे नहीं मान ली जाती है, तब तक उनका धरना—प्रदर्शन जारी रहेगा। लीसा श्रमिकों (Leesa workers) ने जिलाधिकारी को एक पत्र भेज 25 नवंबर से वन संरक्षक कार्यालय में तालाबंदी करने की चेतावनी दी है।

बिजली लाइन (bijli line) का तार टूटा, बड़ा हादसा होने से टला

धरना—प्रदर्शन में अध्यक्ष किशोर नयाल, दिगम्बर सिंह, हरेंद्र बिष्ट, जगत सिंह, राजेंद्र किरौला, सुरेंद्र सिंह बेलवाल, रमेश भाकुनी, दिनेश चंद्र पेटशाली, आशुतोष कनवाल, नंदन सिंह, कुंदन सिंह, भूपाल सिंह, राजेंद्र सिंह, खीम सिंह, उमेद सिंह मेहरा आदि मौजूद थे।

अपडेट खबरों के लिए हमारे youtube चैनल को सब्सक्राइब करें