उत्तरा न्यूज
अभी अभी अल्मोड़ा उत्तराखंड मुद्दा विविध

पूजा पडियार के ऐपण (Aipan) – कुमाऊं की विलुप्त हो रही संस्कृति को जीवंत रखने की मुहिम

खबरें अब पाए whatsapp पर
Join Now

नैनीताल, 29 अल्मोड़ा 2020- कुमाऊं में ऐपण (Aipan) कहलाने वाली रंगोली भारत की प्राचीन सांस्कृतिक परंपरा और लोक-कला है। अलग अलग प्रदेशों में रंगोली के नाम और उसकी शैली में भिन्नता हो सकती है लेकिन इसके पीछे निहित भावना और संस्कृति में समानता है।

इसकी यही विशेषता इसे विविधता देती है और इसके विभिन्न आयामों को भी प्रदर्शित करती है। अब नैनीताल की पूजा अपनी कल्पना शक्ति से जो रंग भर रही है उसके बाद यह ऐपण पूरे देश में धूम मचा रहे हैं

अल्मोड़ा- रॉयल राजपूत की टीम ने जीता स्वर्गीय रोहित वाणी मेमोरियल क्रिकेट टूर्नामेंट (Cricket Tournament) 2021 का खिताब

रंगोली को उत्तराखंड में ऐपण नाम से जाना जाता है। उत्तराखंड में ऐपण (Aipan) का अपना एक अहम स्थान है लेकिन बिगत कुछ वर्षों से ऐपण कला और कुमाऊंनी लोक कला धीरे धीरे विलुप्त होती जा रही है।


लेकिन मूलरूप से नैनीताल जनपद ओखलकांडा निवासी पूजा पडियार अपनी ऐपण (Aipan)
कला के जरिए लोक कलाओं को सहेजने, लोक कलाओं को जीवंत रखने व कुमाऊंनी संस्कृति को देश में ही नही बल्कि विदेशों तक पहुँचाने का कार्य कर रही है।

पिथौरागढ़— ऐपण (aipan) को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए आयोजित हुई कार्यशाला

पूजा पडियार ने बताया कि वह बचपन से ही कुमाऊंनी संस्कृति के प्रति उनका काफी रुझान रहा है और बीते 2 सालों से हुए विलुप्त हो रही कुमाऊं की संस्कृति को बचाने के लिए ऐपण (Aipan) के जरिए एक छोटी सी कोशिश कर रही हैं। उन्होंने कहा कि उनके ऐपण की विभिन्न राज्यों के लोगों द्वारा मांग की जा रही है। तो उनको काफी अच्छा लगता है। कुमाऊंनी संस्कृति को कुमाऊं में ही नहीं बल्कि दूसरे राज्यों के लोगों द्वारा काफी पसंद किया जा रहा है।

Aipan

कृपया हमारे youtube चैनल को सब्सक्राइब करें

https://www.youtube.com/channel/UCq1fYiAdV-MIt14t_l1gBIw/videos

Related posts

पाठ्यपुस्तक संशोधन विवाद : साहित्यकार ने कर्नाटक में सरकारी पद से इस्तीफा दिया

Newsdesk Uttranews

Almora: नामांकन कराने जा रहे विनय किरौला ने पहले अस्पताल में करवाया महिला का स्वास्थ्य परीक्षण, फिर कराया नामांकन

editor1

एनडी के निधन पर प्रदेश में शोक की लहर, शासन ने घोषित किया तीन दिन का राजकीय शोक