News-web

आखिर कहां से आया महिला इंस्पेक्टर के पास इतना धन, किराए के कमरे में मिला ढेर सारा पैसा

Published on:

राजस्थानी फर्जी इंस्पेक्टर बनकर रौब झाड़ने वाली महिला के घर पुलिस को तीन वर्दियां और 7 लाख रुपए कैश मिले। यह देखकर हर कोई हैरान हो गया। इस महिला को अब पूरे शहर की पुलिस ढूंढ रही है। फर्जी पुलिस इंस्पेक्टर बनाकर सिंघम की तरह रौब झाड़ने वाली इस महिला को अब जयपुर पुलिस तलाश रही है। इस महिला के कमरे में ₹700000 कैश मिले इसी के साथ फर्जी दस्तावेज भी मिले जिसकी जांच चल रही है।

फर्जी इंस्पेक्टर बनने वाली महिला का असली नाम मोना बुगालिया है जबकि घर का नाम मूली बाई है जो फिलहाल इस समय फरार है और पुलिस उसे तलाश कर रही है।

इस महिला के द्वारा राजस्थान पुलिस अकादमी यानी पुलिस के ट्रेनिंग सेंटर में फर्जी तरीके से एंट्री कर दो साल तक खूब रौब झाड़ा, इस मामले में महिला के खिलाफ शास्त्री नगर थाने में भी केस दर्ज है। पुलिस अकादमी के अधिकारी ने जांच में पाया कि मोना ने न तो कोई परीक्षा पास की है और न ही खास ट्रेनिंग ली, फिर भी फर्जी तरीके से सब इंस्पेक्टर बन गई।

पुलिस ने महिला के जयपुर स्थित किराए के मकान में छानबीन की तो रूम से 7 लाख रुपए कैश मिले। इसी के साथ तीन अगल अलग प्रकार की वर्दियां और सोने के जेवरात भी मिले है। ये सब पुलिस ने जब्त कर लिये है। अब पुलिस को महिला की तलाश है। जिसमें पूरी पुलिस टीम जुट गई है।
मोना बुगालिया ने तीन बार एसआई भर्ती परीक्षा दी, लेकिन उसका चयन नहीं हुआ। इस पर उसने खुद ही वर्दी खरीदी और पहन ली। मोना अपने रिश्तेदारों को भी बताती रही कि वह जयपुर ट्रेनिंग के लिए आई है।

उसके बाद कुछ ट्रेनिंग भी की और बाद में सेलिब्रेटी बन गई। उसकी कई फोटो अफसरों और सीनियर अधिकारियों के साथ आने लगी। वह अपने संघर्ष की कहानी सुनाती और बच्चियों एवं युवाओं को प्रेरणा देती, लेकिन अब उसका नया राज खुला है। अब उसके पास से कैश बरामद हुआ है, पुलिस अफसरों का मानना है कि हो सकता है वह अन्य अवैध कामों में लिप्त हो।