News-web

पेयजल संकट से त्रस्त 800 लोग, कलक्ट्रेट में प्रदर्शन के साथ धरना-प्रदर्शन की चेतावनी

Published on:

पिथौरागढ़ के मूनाकोट ब्लॉक के तीन गांवों धौलकाड़ा, कुनकटिया और दोबांस के लोग दो महीने से पेयजल संकट से जूझ रहे हैं। परेशान ग्रामीणों ने बुधवार को कलक्ट्रेट में प्रदर्शन कर जमकर आक्रोश व्यक्त किया। उन्होंने जल्द पेयजल समस्या से निजात नहीं दिलाने पर परिवार के साथ कलक्ट्रेट में धरना-प्रदर्शन करने की चेतावनी दी है।

गौरतलब हो, ग्रामीणों का आरोप है कि गांवों के लिए बनाई गई धौनधूर-कुनकटिया पेयजल योजना को अराजक तत्वों ने जगह-जगह पाइप काटकर क्षतिग्रस्त कर दिया है। इस कारण तीन गांवों में पानी नहीं आ रहा है। ग्रामीणों ने जल संस्थान और जल निगम के अधिकारियों को इस बारे में अवगत कराया है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई है। पेयजल संकट के कारण 800 से अधिक लोगों की आबादी प्रभावित हो रही है। ग्रामीणों ने पेयजल योजना को मूल स्रोत से और क्षतिग्रस्त योजना को सड़क से नीचे शिफ्ट करने की मांग की है।

दूसरी ओर, लोहाघाट के दूरस्थ नेपाल सीमा से लगे दिगालीचौड़ क्षेत्र के लोगों की जल्द ही प्यास बुझने वाली है। जल निगम की ओर से जल जीवन मिशन के तहत बहुल ग्राम योजना के तहत लिफ्ट पेयजल योजना के निर्माण के प्रथम चरण का कार्य पूरा हो गया है। जल्द ही दूसरे चरण का कार्य भी पूरा कर लिया जाएगा।

बता दें, जल निगम के सहायक अभियंता नरेंद्र मोहन गड़कोटी ने बताया कि दिगालीचौड़ में 386.98 लाख की लागत से लिफ्ट पेयजल योजना का निर्माण हो रहा है। योजना के पहले चरण में बोरिंग, मुख्य टैंक, और पाइप लाइन बिछाने का काम पूरा हो चुका है। दूसरे चरण में दो सेंट्रीफ्यूगल पंप में से एक पंप लगा दिया गया है। दूसरे पंप के लिए कंपनी से तकनीशियन आने वाले हैं। एक माह के भीतर पंप लगाकर योजना का ट्रायल शुरू हो जाएगा।

यह योजना लोहाघाट के बहुल ग्राम योजना के तहत बन रही है और दो ग्राम पंचायत और तीन राजस्व गांवों को पानी मिलेगा। यह योजना 30 साल बाद की आबादी को ध्यान में रखते हुए बनाई जा रही है।