News-web

ट्रेन की लोअर सीट पर बैठे यात्री के ऊपर गिरी अपर बर्थ, तुरंत हुई मौत, अब रेलवे ने दी यह सफाई

Published on:

पिछले हफ्ते केरल के एर्नाकुलम से एक ट्रेन दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन स्टेशन के लिए जा रही थी लेकिन बीच रास्ते में यहां ट्रेन में सफर कर रहे यात्री के साथ दर्दनाक हादसा हो गया। S6 कोच में एक यात्री निचली सीट पर बैठा हुआ था। तभी अचानक से अपर बर्थ उसके ऊपर आ गिरी। इससे कोच में चीख पुकार मच गई निकली सीट पर बैठा यात्री गंभीर रूप से घायल हो गया।उसे जल्दबाजी में ट्रेन को नजदीकी रेलवे स्टेशन पर रुकवाया गया।

घायल यात्री को तुरंत नजदीकी अस्पताल में इलाज के लिए ले जाया गया।उस यात्री के तीन ऑपरेशन भी किए गए लेकिन फिर भी वह यात्री बच ना सका। डॉक्टर ने कहा कि यात्री की गर्दन तीन जगह से टूट गई थी जिसके कारण उसकी मौत हो गई।अब रेलवे इस पर सफाई दे रहा है। उन्होंने कहा है कि बर्थ को ठीक तरह से फिट नहीं किया गया था इसलिए यह हादसा हुआ।

मृतक यात्री का नाम अली खान (62) था। वह एर्नाकुलम-हजरत निजामुद्दीन मिलेनियम सुपरफास्ट एक्सप्रेस (12645) के स्लीपर कोच में सफर कर रहा था। ट्रेन 15 जून को एर्नाकुलम से रवाना हुई और 17 जून को हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन पहुंची। जब तेलंगाना से गुजर रही थी उसी दौरान S6 कोच में एक अपर बर्थ नीचे गिरा। इससे निचली सीट पर बैठा अली खान गंभीर रूप से घायल हो गया और उसकी मौत हो गई।

तीन हड्डियां टूटीं थीं

डॉक्टर का कहना था कि यात्री की गर्दन की हड्डियां तीन जगह से टूट गई है और वह पैरालाइज्ड हो गया है। उसकी तीन इमरजेंसी सर्जरी भी की गई लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका। इसके बाद रेलवे मंत्रालय की ओर से कहा गया कि ऊपर बर्थ की सीट की चेन को ठीक से नहीं लगाया गया था जिसके कारण सीट नीचे गिर गई। ट्रेन की सीट में कोई खराबी नहीं थी।

मंत्रालय का दावा है कि दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन स्टेशन पर सीट की जांच की गई थी और वह ठीक पाई गई। रेल मंत्रालय ने बताया कि घायल यात्री की सूचना मिलते ही तेलंगाना के रामागुंडम स्टेशन पर ट्रेन रुकवाई गई थी। एंबुलेंस की व्यवस्था कर पैसेंजर को नजदीकी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था।