Join WhatsApp Group

News-web

चारधाम यात्रा में पहाड़ से बोल्डर गिरने से तीन श्रद्धालुओं की हुई दर्दनाक मौत, यात्रा के दौरान रखें यह सावधानी

Published on:

अगर आप चार धाम यात्रा पर जा रहे हैं तो आपको यात्रा के दौरान कई सारी सावधानियां बरतनी चाहिए। ऐसा नहीं करने पर आपकी जान भी जा सकती है। यात्रा में थोड़ी सी भी लापरवाही आपकी मौत का कारण बन सकती है। चार धाम यात्रा रूट पर पहाड़ से बॉर्डर गिरने से तीर्थ यात्रियों की दर्दनाक मौत हो गई है।पुलिस ने शवों को कब्जे में ले लिया है।

बद्रीनाथ धाम से दर्शन कर बुधवार को ऋषिकेश लौट रहे यात्री वहां पर पहाड़ी से बोल्डर गिर गया। बद्रीनाथ हाईवे में नारकोटा के पास इस हादसे में दो तीर्थ यात्रियों की दर्दनाक मौत हो गई। उधर एक अन्य दुर्घटना में यमुनोत्री की यात्रा पर आई महाराष्ट्र के महिला की पत्थर की चपेट में आ जाने से मौत हो गई।

बद्रीनाथ से ऋषिकेश जा रहे टेंपो ट्रैवलर पर दोपहर नारकोटा के पास पहाड़ी से बोल्डर गिर गया। इससे इस वाहन में सवार 62 वर्षीय अमित सिकधर व 74 वर्षीय बुद्धदेव मजूमदार दोनों निवासी न्यूयार्क, अमेरिका गंभीर रूप से घायल हो गए।

स्थानीय लोगों की मदद से उन्हें चिकित्सालय भी ले जाया गया। अस्पताल में डॉक्टरों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया। कोतवाली निरीक्षक राजेंद्र सिंह रौतेला का कहना है कि टेंपो ट्रैवलर में कुल 9 लोग सवार थे। वाहन बद्रीनाथ से ऋषिकेश जा रहा था।

उत्तरकाशी पुलिस का कहना है कि यमुनोत्री यात्रा पर आई 33 वर्षीय दिपाली पत्नी संदीप गावडे निवासी सोलापुर महाराष्ट्र की सुबह हुए हादसे में जान चली गई। यमुनोत्री पैदल मार्ग पर हनुमान मंदिर के पास दिपाली के ऊपर एक पत्थर गिर गया। इससे दिपाली के सिर पर चोट लग गई और उसकी मौत हो गई।

उत्तरकाशी पुलिस के अनुसार,गुजरात निवासी 69 वर्षीय परमार गणपथ सिंह पुत्र रतनजी की भंडेलीगाड़ के पास तबीयत खराब हो गई। उन्हें पीएचसी जानकीचट्टी लाया गया, जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। गंगोत्री में अब तक विभिन्न कारणों से नौ और यमुनोत्री में 21 की मौत हो चुकी है।

यात्रा में ये रखें सावधानी-

खराब मौसम में सतर्क रहें
बारिश में यात्रा करने से बचें
यात्रा रूट पर बारिश का अपडेट लेकर यात्रा पर जाएं
खराब मौसम पर अपने गंतव्य में रात होने से पहले सुरक्षित पहुंचे
बारिश की स्थिति में पहाड़ से दूर चलें
आंधी-तूफान आने पर सुरक्षित स्थान पर खड़े रहें
खराब मौसम में गाड़ी तेज न चलाएं