News-web

उत्तराखंड का यह गांव गुलाब के महक से हुआ गुलजार छाई हर तरफ खुशबू ही खुशबू

Published on:

गुलाब की महक से चमोली का यह गांव गुलजार हो गया है ,डेमस्क रोज की खेती किसानों के जीवन में खुशहाली ला रही है।

जोशीमठ (चमोली)- सीमांत जनपद चमोली में डेमस्क रोज की खेती किसानों की आजीविका का अब एक अच्छा साधन बन चुका है। डेमस्क रोज से तैयार गुलाब जल और तेल के विपणन से किसान को फायदा मिलने लगा है। मनरेगा के तहत जोशीमठ ब्लॉक के ग्राम पंचायत  द्वींगतपोण में 35 परिवारों को डेमस्क रोज उत्पादन से जोडा गया था। इस सीजन में यहां किसानों में डेमस्क रोज से 400 लीटर से अधिक गुलाब जल और तेल तैयार कर अच्छी आय अर्जित की है।

किसानों द्वारा चार धाम यात्रा मार्ग सहित स्वयं सहायता समूह के माध्यम से गुलाब जल की बिक्री की जा रही है। गुलाब जल हाथों हाथ बिक रहा है और इससे अच्छी आई भी मिल रही है, जिससे हर कोई काफी खुश दिखाई दे रहा है। बताया जा रहा है कि परंपरागत खेती के साथ उन्होंने डेमस्क गुलाब की खेती को भी अपनाया है। गुलाब जल की खेती को जंगली जानवरों से भी कोई खतरा नहीं रहता है।

इसके अलावा यह असिंचित भूमि पर भी आसानी से उगाया जा सकता है। गुलाब की खेती करने के बाद सभी को काफी फायदा मिल रहा है। जिला विकास अधिकारी का कहना है कि जनपद में मनरेगा के तहत स्वयं सहायता समूहों को पुष्प वाटिका बनाने के लिए भी प्रेरित किया जा रहा है।