fire

So chaotic elements set fire in Bhaiswada Farm, SDM carried out terrestrial inspection

अल्मोड़ा, 04 नवंबर 2020
अल्मोड़ा के भैसवाड़ा फार्म से सटे जंगल में आग (fire)
कोरोना संक्रमित महिला की चिता से नहीं ​बल्कि कुछ अराजक तत्वों द्वारा लगाई थी। यह दावा हम नहीं बल्कि जिला प्रशासन कर ​रहा है।

बुधवार को एसडीएम सीमा विश्वकर्मा ने भैसवाड़ा फार्म से सटे जंगल में लगी आग (fire) का स्थलीय निरीक्षण किया। एसडीएम ने बताया कि मौके पर जाकर भैसवाड़ा फार्म में कर्मचारियों को आग के कारणों के बारे में पूछने पर उनके द्वारा अवगत कराया गया कि फार्म के गेट के बाहर 2 व्यक्तियों द्वारा आग लगायी गयी। मौके पर आग का यही कारण पाया गया।

उपजिलाधिकारी ने बताया कि बीते दिनों कोरोना संक्रमित महिला की चिता से लगी आग(fire) को उसी दिन अग्निशमन दल द्वारा बुझा दिया गया था।
एसडीएम ने बताया कि आग लगाने वाले अराजक तत्वों की पहचान की जा रही है, जिनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करते हुए एफआईआर दर्ज करायी जायेगी।

ये है मामला—
बीते दिनों बेस अस्पताल में एक कोरोना संक्रमित वृद्धा की मौत के बाद भैसवाड़ा फार्म में कोविड गाइडलाइन के अनुसार उसका दाह संस्कार किया गया। इस दौरान​ चिता की आग (fire) अचानक भैसवाड़ा फार्म में फैल गई हालांकि, फायर कर्मियों ने मौके पर पहुंचकर दमकल वाहन से आग बुझा दी गई।

इसी रात भैसवाड़ा फार्म से सटे जंगलों में भी भीषण आग लग गई। यह आग करीब 4 से 5 हेक्टेयर क्षेत्र में फैली हुई थी। जिससे प्राकृतिक संपदा का भी नुकसान हुआ। आग का कारण कोरोना संक्रमित महिला की चिता बताया जा रहा था। लेकिन प्रशासन का दावा है कि आग (fire) चिता से नहीं बल्कि कुछ अराजक तत्वों द्वारा लगाई गई है।

एसडीएम सीमा विश्वकर्मा ने बताया कि ​कोरोना संक्रमित महिला की चिता से आग फार्म परिसर में लगी थी। जिसे फायर कर्मियों द्वारा बुझा दिया गया था। जबकि फॅार्म से सटे जिस जंगल में आग (fire) लगी थी, वह फार्म परिसर तक नहीं पहुंची है।
निरीक्षण के दौरान एसडीएम के साथ नायब तहसीलदार मनीषा मारकाना, कानूनगो कुन्दन सिंह नयाल मौजूद थे।