News-web

छह दोस्तों ने सुबह मिलकर बनाया प्लान, दोपहर में कर दिया रद्द लेकिन अचानक चल दिए और फिर हुआ सबसे बड़ा हादसा

Published on:

छः दोस्तों ने नीम करौली चलने के लिए प्लान बनाया और फिर एक दूसरे को मनाने में लग गए। कभी किसी ने तो कभी किसी ने अपने प्लान को रद्द किया लेकिन फिर आखिरकार सब एक साथ मान गए। यह बात गढ़ कोतवाली पहुंचे धर्मेंद्र सिंह ने पुलिस को बताई।

सोमवार की रात को गांव अल्लाहख्शपुर में मौत के मुंह में समाए युवकों का नीम करौली जाने का प्लान बना, फिर रद्द हुआ, लेकिन संभवत: मौत ही उन्हें यहां तक खींच कर ले आई। हादसे के बाद मृतकों के परिजनों के साथ कोतवाली पहुंचे लोनी निवासी धर्मेंद्र भी पहुंचा।

धर्मेंद्र सिंह ने बताया कि सोमवार के सुबह को सभी लोगों ने नीम करौली जाने का प्लान बनाया लेकिन सचिन ने आवश्यक काम होने के कारण जाने से मना कर दिया। सचिन के मना करने पर दोपहर को प्लान रद्द हो गया लेकिन रात 8:00 बजे फिर सभी नीम करौली जाने को तैयार हो गए। धर्मेंद्र का कहना है कि अनूप समेत सभी दोस्त ने उसको भी साथ चलने के लिए कहा लेकिन उसने मना कर दिया तो वह सभी लोग उसकी कार लेकर दर्शन करने के लिए चले गए।

कोतवाली पहुंचे धर्मेंद्र का कहना है कि रात 8:00 बजे सभी दोस्त नीम करौली जाने के लिए निकले। देर रात करीब 12:40 पर उसके मोबाइल पर फोन आया फोन करने वाले व्यक्ति ने खुद को एक पुलिसकर्मी बताया और हादसे के बारे में जानकारी थी उसे समय धर्मेंद्र को लगा यह मजाक है और उसने फोन काट दिया।

इसके बाद कोतवाली प्रभारी ने उसे फोन किया तो उसे मामले के बारे में पता चला। इसके बाद कई घंटे तक उसका परिजनों से कोई संपर्क नहीं हो पाया। इस हादसे में 6 लोगों की मौत हो गई

पंचनामा भरने के लिए एक साथ लगे छह एसआई
गांव अल्लाबख्शपुर में सडक़ हादसा होने के बाद मृतकों के परिजन का कोतवाली में तांता लग गया।

यूपी की हापुड़ जिले में नेशनल हाईवे 09 पर ब्रजघाट के गांव अल्लाबख्शपुर टोल के पास सोमवार रात करीब 12 बजे टायर फटने से अनियंत्रित होकर कार डिवाइडर पार करते हुए दूसरी तरफ जा पहुंची और सामने से आ रहे ट्रक से टकरा गई। हादसे में कार सवार छह दोस्तों की मौत हो गई। एक गंभीर रूप से घायल हो गया। कार सवार सभी लोग आपस में दोस्त थे। ये लोग लोनी से नैनीताल के पास कैंची स्थित बाबा नीम करौरी आश्रम जा रहे थे।

मंगलवार सुबह मृतकों की पहचान लोनी के मोहल्ला न्यू विकासनगर निवासी रोहित सैनी उर्फ शंकर (33), विपिन सोनी (35), मोहल्ला नवीन कुंज निवासी अनूप सिंह (38), गिरी मार्केट निवासी संदीप (35), मोहल्ला शिव विहार निकट मेट्रो स्टेशन निवासी निक्की जैन उर्फ तरुण (33) व मूल रूप से मुजफ्फरनगर के खतौली निवासी राजू जैन उर्फ राजकुमार (36) के रूप में हुई।

राजू की लोनी में खिलौना बनाने की फैक्टरी है। वह भी लोनी के न्यू विकास नगर में रहते थे। संदीप के भाई सचिन की हालत गंभीर देखते हुए उन्हें मेरठ रेफर कर दिया गया। सातों दोस्त रात नौ बजे लोनी से निकले थे। 12 बजे हादसे के शिकार हो गए। एएसपी राजकुमार अग्रवाल का कहना है कि आशंका है कि टायर फटने के बाद कार अनियंत्रित होकर दूसरी दिशा में पहुंच गई। ट्रक के चालक और परिचालक का पता नहीं चला है। हादसे के बाद वह ट्रक को मौके पर छोड़कर फरार हो गए।