News-web

हल्की हवा चलते ही दहशत में आ जाते हैं साई कालौनी निवासी, जर्जर हो चुके पेड़ो को जनहित में हटाने की मांग

By editor1

Published on:

Sai Colony residents get scared as soon as light breeze blows, demand to remove dilapidated trees in public interest

Sai Colony residents get scared as soon as light breeze blows, demand to remove dilapidated trees in public interest

अल्मोड़ा, 06 जून 2024— अल्मोड़ा के सांई कालौनी निवासी लोगों ने एक बार फिर कालौनी के सामने सड़क किनारे खतरे की संभावना वाले पुराने और खरतनाक हो चुके पेड़ों को हटाने की मांग की है। लोगों का कहना है कि तूफान और तेज हवाओं को देखते ही आस पास रहने वाले लोग दहशत में आ जाते हैं यहां कभी भी कोई बड़ा हादसा सामने आ सकता है।


अल्मोड़ा शहर में साई बाबा मंदिर के समीप सड़क किनारे स्थित विशाल और पुराने हो चुके पेड़ों के निस्तारण की मांग एक बार फिर लोगों ने उठाई है। लोगों का कहना है कि जिस तरह इन दिनों तूफान और तेज हवाओं के चलते कई स्थानों से नुकसान की सूचनाएं आ रही हैं ऐसे में यहां रहने वाले लोग खतरे के साए में हैं। यहीं नहीं एडम्स परिसर से लगे इन पेड़ों के टहनियों के समीप बिजली की लाइन गुजरती है। तो लम्बी और पुरानी हो चुकी टहनियां आए दिन सड़क पर गिरते रहती हैं।

ऐसी स्थिति में वहां रहने वाले लोगों और राहगीरों को हरदम अपने जान की चिंता सताते रहती है।
लोगों का कहना है कि कि यहां छुट्टी और स्कूल लगने के दौरान स्कूल के बच्चों का जमघट लगा रहता है क्यों की इस छोर से आस—पास के पांच स्कूलों के सैकड़ों बच्चे और वाहन सड़क से गुजरते हैं। सामने मंदिर होने से श्रद्धालु भी आते रहते हैं वइसके अलावा वहां रहने वाले लोग भी हरदम खतरे के साऐ में जीते हैं।

Sai Colony residents get scared as soon as light breeze blows, demand to remove dilapidated trees in public interest


हल्की सी हवा और बारिश के दौरान कई बार इन पुराने हो चुकी पेड़ों की टहनियां टूट कर सड़क में गिरती रहती हैं। ऐसे में लोगों को अपने जान की चिंता सताती रहती है। लोगों का कहना है कि बंदरों ने भी पेड़ों पर अपना आवास बना डाला है उनकी धमाल चौकड़ी कई बार छोटे स्कूली बच्चों पर भारी पड़ती है तो समीप से गुजरती लाईन से शार्ट शर्किट का खतरा भी बना रहता है।


लोगों का कहना है कि इन दिनों विभिन्न स्थानों पर पेड़ गिरने से नुकसान की सूचनाएं आ रही हैं ऐसे में जरा सभी भी हवा चलते ही लोग दहशत में आ जाते हैं। विभाग से कई बार अनुरोध किया जा चुका है। कई बार पत्र भी लिखा गया है लेकिन दुर्घटना और खतरे का सबब बने इन पेड़ों को काटने या छांटने के संबंध में विभाग के स्तर से कोई पहल नहीं हुई है। लोगों ने साफ चेतावनी भी दी है कि यदि भविष्य में कोई दुर्घटना या अनहोनी हुई तो वन विभाग इसका जिम्मेदार रहेगा।