बाघ के लगातार हमलों से उत्तराखंड में दहशत , वन विभाग अलर्ट मोड पर , मूमेंट कैद करने के लिए लगाए कैमरे ट्रैप

उत्तरा न्यूज डेस्क
2 Min Read

बीते दिनों उचौलीगोट में बाघ ने महिला पर हमला किया था। जिसके बाद से वन विभाग अलर्ट मोड पर आ गया है। बाघ की मूमेंट कैद करने के लिए वन विभाग ने बूम रेंज के नघान वन क्षेत्र में चार ट्रैप कैमरे लगा दिए है। गुरुवार को टीम घटनास्थल पर पहुंची और विभिन्न स्थानों पर कैमरा ट्रैप लगाए।

गौरतलब है कि बीते दिन मंगलवार को 35 वर्षीय गीता अपनी साथी महिलाओं के साथ घास लेने के लिए जंगल गई हुई थी। इस दौरान बाघ ने गीता देवी पर हमला कर दिया था दो अन्य साथी महिलाओं ने बहादुरी दिखाते हुए गीता देवी बाघ के चंगुल से छुड़वा लिया। और गीता देवी की जान बच गई। लेकिन इस घटना के बाद से ग्रामीणों द्वारा वन विभाग से बाघ को पकड़ने की मांग की गई। बूम रेंज के रेंजर गुलजार हुसैन ने बताया कि रेंज के नघान क्षेत्र में बाघ की गतिविधियों को कैद करने के लिए गुरुवार को चार कैमरा ट्रैप लगा दिए गए है।

बताया कि विभाग की टीम लगातार बाघ की मूवमेंट पर नजर बनाएगी उन्होंने कहा की यदि जरूरत पड़ेगी तो पिंजरा भी लगाया जाएगा। वही ग्रामीणों ने बाघ को पिंजरे में कैद करने की मांग की है। वही बाघ के हमले से घायल गीता देवी को उपचार के लिए वन विभाग द्वारा 10 हजार रु की धनराशि दी गई है। रेंजर ने बताया कि स्वजन को विभाग की ओर से हरसंभव सहायता दी जाएगी। बाघ के हमले से पीड़ित महिला को 10 से 50 हजार रुपए तक की सहायता दी जाती है। जिला मुख्यालय से लगे 6 गांवों में गुलदार के बढ़ते आतंक को देखते हुए वन विभाग सक्रिय हो गया है। वन विभाग गुलदार प्रभावित इलाकों में ट्रैप कैमरे लगाए गए है।

Joinsub_watsapp