उत्तरा न्यूज
अभी अभी कुछ अनकही संस्कृति

अनछुए पहलू : मनोरंजन के लिए वो अब नहीं रचते स्वांग (swang)

swang

उत्तरा न्यूज की खबरें अब whatsapp पर, इस लिंक को क्लिक करें और रहें खबरों से अपडेट बिना किसी शुल्क के
Join Now

लुप्त होने लगी स्वांग (swang) की कला

ललित मोहन गहतोड़ी 

nitin communication

विलुप्ति की कगार पर खड़ी हमारे मनोरंजन की सबसे पहली कड़ी स्वांग (swang) रचने की परंपरा अब सिमटने लगी है। पहले मनोरंजन के साधनों की कमी के कारण अनेक स्वांगी विधा के जानकार कलाकार विभिन्न अवसरों में स्वांग (swang) रचकर लोगों का मनोरंजन करते थे। वर्तमान में मनोरंजन के अन्य आधुनिक साधनों के चलते यह विधा धीरे धीरे अब समाज से दूर होती जा रही है।

आज भी जब किसी मजाकिया व्यक्ति की बात सामने आती है तो उसके द्वारा विभिन्न अवसरों पर रचे गये स्वांग (swang) की बात सामने आती है। प्रत्येक गांव में एक ना एक व्यक्ति आज भी इस हुनर का धनी रहा है पर अब इस तरह स्वांग रचकर पारंपरिक त्योहारों, आयोजनों आदि के अवसर अपनी विधा दिखाने से अधिकतर स्वांगी दूरी बनाने लगे हैं।

ayushman diagnostics

जो व्यक्ति स्वांग रचता है स्थानीय भाषा में उक्त व्यक्ति को स्वाग्या कहा जाता है और वह उस समय ग्रामीणों के मनोरंजन का भरपूर साधन हुआ करता था।। नित नये गप्प,समाचार, कथा-कहानी, लतीफे-चुटकुले आदि के अलावा अपनी विशेष पोशाक पहनकर लोगों को सुनाता तो खड़े-खड़े लोग हंसते-हंसते लोटपोट होने लगते। अब कभी-कभार रामलीला और होलियों मेंं ही कहीं कहीं इस एकमात्र प्राचीन विधा को कुछेक स्वाग्या महज जिंदा रखे हुए हैं।

Related posts

अब आप(Aap) के हुए पूर्व पीसीसी प्रवक्ता अमित

अल्मोड़ा के धामस में शुरु हुआ धामस प्रीमियर ​लीग(Dhamas Premier League), खिलाड़ियों में उत्साह

Newsdesk Uttranews

Vidhansbha Chunav 2021- मतगणना में कहां कौन है आगे

Newsdesk Uttranews