News-web

” टीम में जगह न मिलना रिंकू की गलती नहीं, टीम को अतिरिक्त स्पिनर की थी ज़रूरत” :- आगरकर

Published on:

मुंबई: टी20 वर्ल्ड कप 2024 के लिए भारतीय टीम का ऐलान हो गया है। इसमें 15 सदस्यीय की मैन टीम में रिंकू सिंह को शामिल नहीं किया गया है; जिससे उनके कई फैंस और कुछ दिग्गज हैरान हैं। सोशल मीडिया पर इस फैसले की लगातार आलोचना हो रही है और लोग रिंकू की जगह किसी और खिलाड़ी को टीम में शामिल करने पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहें हैं। इस विवाद पर चीफ सेलेक्टर अजित अगरकर ने सफाई देते हुए कहा कि, रिंकू का T20 विश्व कप से बाहर होने की वजह उनका खराब प्रदर्शन नहीं, बल्कि टीम की ज़रूरतें थीं। बता दें, हालांकि उन्हें रिजर्व खिलाड़ी के रूप में रखा गया है।

अगरकर ने कहा कि, “टीम चयन के दौरान सबसे कठिन फैसला रिंकू सिंह को लेकर ही था।” उन्होंने आगे कहा, “यह उनकी गलती नहीं है कि उन्हें टीम में जगह नहीं मिली। वह जगह बनाने के बेहद करीब थे।”

साथ ही अगरकर ने इसपर आगे बताया कि, “टीम मैनेजमेंट को लगा कि वर्ल्ड कप के लिए टीम में 1 अतिरिक्त स्पिनर होना चाहिए। इसी वजह से रिंकू की जगह किसी और स्पिनर को टीम में शामिल किया गया।”

आगरकर ने की रिंकू की तारीफ

अगरकर ने रिंकू के प्रदर्शन की तारीफ करते हुए कहा कि, “उन्होंने पिछले कुछ समय में बेहतरीन प्रदर्शन किया है और जब भी उन्हें मौका मिला है, उन्होंने उसे दोनों हाथों से भुनाया है। उन्होंने कहा कि रिंकू टीम के भविष्य के लिए एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी हैं और उन्हें आगे भी मौके मिलते रहेंगे।”

अगरकर ने बताया कि, “रिंकू सिंह को वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम के रिजर्व खिलाड़ियों में शामिल किया गया है। अगर किसी खिलाड़ी को चोट लगती है या कोई और समस्या आती है, तो रिंकू को टीम में शामिल किया जा सकता है।”

बता दें, रिंकू सिंह ने पिछले साल (2023) भारतीय टीम में डेब्यू किया था और अब तक 15 T20I मैचों में 356 रन बनाए हैं। उनका स्ट्राइक रेट 176.23 और औसत 89 का है। आईपीएल में भी उन्होंने कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए कई मैच जिताऊ पारियां खेली हैं। बता दें, रिंकू ने पिछले साल आईपीएल में 14 मुकाबलों में 149.52 की स्ट्राइक-रेट से 474 रन बनाए थे। वे कोलकाता की तरफ से सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज थे, उन्होंने पिछले साल कोलकाता को बहुत मुकाबले अकेले अपने दम पर जिताया थे। हालांकि इस साल रिंकू का बल्ला अबतक खामोश रहा। केकेआर के लिए उन्होंने इस साल 9 मैचों में उन्होंने सिर्फ 20 की औसत से 123 रन बनाए, जो न चयन होने का अंदरूनी तौर पर बड़ा कारण हो सकती है।