News-web

चारधाम यात्रा पर केंद्र की कड़ी निगरानी, रोजाना रिपोर्ट मांगी, भीड़ प्रबंधन के लिए कमेटी गठित

Published on:

चारधाम यात्रा में लगातार सामने आ रही भीड़ प्रबंधन संबंधी शिकायतों के बीच अब केंद्र सरकार ने इस यात्रा पर कड़ी निगरानी शुरू कर दी है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने यात्रा की प्रतिदिन की रिपोर्ट मांगी है और भीड़ प्रबंधन के लिए एनडीआरएफ और आईटीबीपी की मदद लेने के निर्देश दिए हैं। साथ ही, भविष्य में यात्रा प्रबंधन की रणनीति बनाने के लिए एक विशेष कमेटी गठित करने के निर्देश भी दिए गए हैं।

गौरतलब हो, गृह मंत्रालय ने उत्तराखंड सरकार को यात्रा की प्रतिदिन की स्थिति रिपोर्ट भेजने के निर्देश दिए हैं। रिपोर्ट में धामों, यात्रा मार्गों और ठहराव स्थलों पर यात्रियों की संख्या का विवरण शामिल होगा। जरूरत पड़ने पर एनडीआरएफ और आईटीबीपी की मदद से भीड़ प्रबंधन किया जाएगा। भविष्य में चारधाम यात्रा के बेहतर प्रबंधन के लिए एक विशेष कमेटी का गठन किया जाएगा।

मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला को वर्चुअल बैठक में राज्य में यात्रा की अद्यतन जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सभी राज्यों, विशेषकर उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र से आने वाले यात्रियों को रजिस्ट्रेशन के बाद ही यात्रा करने के लिए कहा गया है। यात्रा के लिए ऑफ़लाइन पंजीकरण 31 मई तक बंद कर दिया गया है।

बता दें, यात्रा के दौरान 24 घंटे कॉल सेंटर संचालित किया जा रहा है। पंजीकृत श्रद्धालुओं की जाँच बड़कोट, हीना, सोनप्रयाग और पांडुकेश्वर में की जा रही है।जानकीचट्टी, गंगोत्री मंदिर, स्वर्गारोहिणी, आईएसबीटी, बीआरओ और माणा में श्रद्धालुओं को टोकन जारी किए जा रहे हैं। चारधाम यात्रा के लिए जून का ऑनलाइन पंजीकरण पूर्ण हो चुका है। जुलाई से नवंबर तक यात्रा के लिए पंजीकरण उपलब्ध हैं। अब तक 31.55 लाख से अधिक यात्रियों ने पंजीकरण कराया है और 9.61 लाख यात्री दर्शन कर चुके हैं।

कोतवाली पुलिस ने चारधाम यात्रा का फर्जी रजिस्ट्रेशन करने वाली ट्रेवल एजेंसी के संचालक को हरिद्वार से गिरफ्तार किया है। हेमकुंड साहिब स्थित लोकपाल लक्ष्मण मंदिर के कपाट बुद्ध पूर्णिमा पर्व पर खोल दिए गए। चारधाम यात्रा पर केंद्र सरकार की सक्रियता से यात्रा प्रबंधन और सुरक्षा में सुधार होने की उम्मीद है।