उत्तरा न्यूज
अभी अभी

आपसी विवाद में चली गोली से पिथौरागढ़ के जवान की मौत, असम का है मामला

खबरें अब पाए whatsapp पर
Join Now


 

उत्तर पूर्वी राज्य असम में तैनात एक ​सैनिक की मौत की सूचना आ रही है। सैनिक उत्तराखण्ड का रहने वाला था। बताया जा रहा है कि तिनसुकिया जिले में सेना के एक शिविर में तीखी बहस के बाद 31 वर्षीय जवान की उसके एक सहयोगी ने कथित तौर पर गोली मारकर हत्या कर दी। मृतक की पहचान उत्तराखंड निवासी 31 वर्षीय नायक संजय चंद के रूप में हुई है। सूत्रों के मुताबिक घटना शुक्रवार और शनिवार के बीच रात 1.15 बजे की है। 

ईस्टमोजो की खबर के अनुसार पानीटोला पुलिस चौकी प्रभारी दीनानाथ सोनोवाल ने बताया कि कि 73 वीं ब्रिगेड के एक वरिष्ठ सेना अधिकारी ने उन्हें शनिवार सुबह 5.04 बजे फोन करके बताया कि दो सैनिकों के बीच झगड़ा हुआ था,और उनमें से एक की मौत हो गई। सोनोवाल ने कहा, “वह पुलिसकर्मियों की एक टीम और ऑन-ड्यूटी मजिस्ट्रेट सुरेश पाठक के साथ, तिनसुकिया जिले के लैपुली में ब्रिगेड मुख्यालय गये और मौके से 20 fired cases ओर एक INSAS राइफल जब्त की।”

उन्होंने बताया कि , ” पुलिस और मजिस्ट्रेट की अनुपस्थिति में मृतक के शव को लैपुली से दिनजान आर्मी कैंप ले जाया गया।”

सोनोवाल ने बताया कि, “ऑन-ड्यूटी मजिस्ट्रेट के आदेश पर, वह दिनजान आर्मी कैंप गए और शव को तिनसुकिया के सिविल अस्पताल लाया गया और जहां एक अन्य ऑन-ड्यूटी मजिस्ट्रेट की जांच के बाद शव का पोस्टमार्टम कराया गया।”

सोनोवाल ने बताया कि इस मामले में उत्तराखण्ड के निवासी आरोपी लांस नायक राजेंद्र प्रसाद को गिरफ्तार कर लिया गया है। और उससे अभी पूछताछ की जानी है।  अभी पूछताछ करनी है, 
एक अन्य अधिकारी ने नाम ना बताने की शर्त पर बताया कि ऐसा लग रहा है कि मौत गोली लगने से हुई है। कहा कि निर्णायक निष्कर्षों के लिए वह आधिकारिक पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रहे है। 

ईस्टमोजो की खबर के अनुसार सर्किल अधिकारी पाठक ने यह कहते हुए टिप्पणी करने से इनकार कर दिया कि वह मीडिया से बात करने के लिए सक्षम अधिकारी नहीं हैं।

Related posts

मध्यप्रदेश में पंचायत चुनाव का जोर, उम्मीदवार घर-घर दे रहे दस्तक

Newsdesk Uttranews

देश में बेकाबू होता कोरोना (Corona)- बीते 24 घंटे में 1027 लोगों की मौत, 1.84 लाख से अधिक मामले, पढ़ें पूरी खबर

Newsdesk Uttranews

बगावत झेल रही भाजपा कांग्रेस का संकट बरकरार,अध्यक्ष पद पर किसी प्रत्याशी ने नहीं लिया नाम वापस