Almora Breaking- Pwd ke je par laga aarop

Almora Breaking- Pwd ke je par laga aarop

अल्मोड़ा। यहां लोक निर्माण विभाग अल्मोड़ा (Almora) के जेई पर जमीन हड़पने का आरोप लगा है।

अल्मोड़ा (Almora) नगर के थपलिया मोहल्ले के लोगों ने गुरूवार को जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन देकर उक्त जेई के खिलाफ कार्यवाही की मांग की।

ज्ञापन में कहा गया है कि लोक निर्माण विभाग अल्मोड़ा (Almora) में जेई के पद पर कार्यरत अशोक कुमार सिंह जो कि प्रदेश का रहने वाला हैंं। आरोप लगाया गया है कि अशोक कुमार सिंह द्वारा उत्तराखण्ड और उत्तर प्रदेश में लोगों को डरा धमकाकर जमीनों में कब्जा किया जा रहा है।

यह भी आरोप लगाया गया है कि उक्त जेई अराजक तत्वों और हथियारों के दम पर लोगों को धमका रहा है। और कई बार उक्त जेई के खिलाफ शिकायतें की गई लेकिन उसने उंची पहुंच के चलते कोई कार्यवाही नही की गई ।ज्ञापन में आरोप लगाया गया है कि जेई अशोक कुमार सिंह अल्मोड़ा (Almora) के थपलिया मोहल्ले में बहुमंजिला भवन का निर्माण करवा रहे है और जेई ने डाक विभाग व नगर पालिका व स्थानीय लोगों की भूमि को अवैध रूप से कब्जा किया हुआ है।

आरोप है कि इस बहुमंजिला भवन का जिला विकास प्राधिकरण अल्मोड़ा से नक्शा भी पास नही करवाया गया है और रोड साइड कंट्रोल एक्ट का भी उल्लंघन किया गया है। ज्ञापन में आरोप लगाया गया है कि उक्त भवन के निर्माण के लिये आ रही सामग्री में लोक निर्माण विभाग के वाहनो का प्रयोग किया जा रहा है। ज्ञापन में इस मामले की निष्पक्ष जांच के लिये जेई अशोक कुमार सिंह का अन्यंत्र ट्रांसफर करने और लोक निर्माण विभाग में उक्त जेई की नियुक्ति की जांच करने की मांग की गई है।


ज्ञापन में हरीश चन्द्र जोशी, नंदा बल्लभ जोशी, भरत जोशी, मोहित जोशी, सौरभ जोशी, संदीप जोशी, राहुल जोशी,अनिवेश जोशी, अन्नया जोशी, गंगा घुघुत्याल, चंदन गिरी गोस्वामी, देवेन्द्र गोस्वामी, नंदी गोस्वामी, अमित गोस्वामी, गौरव गोस्वामी, प्रकाश लोहनी, भुवन भास्कर, आनंद सिंह ऐरी, श्रीमती सुशीला ऐरी, संजय भट्ट आदि के हस्ताक्षर है।

इधर इस मामले में पूछे जाने पर प्रांतीय खण्ड लोक निर्माण विभाग अल्मोड़ा के जेई अशोक सिंह ने अपने ऊपर लगाये गये आरोपों को आधारहीन बताया है। कहा कि उनके पास जमीन की रजिस्ट्री के कागज है और उनके खिलाफ ​हरीश जोशी और कुछ लोग बे​बुनियाद आरोप लगाते हुए षडयंत्र कर रहे है। कहा कि इस बाबत एक मामला न्यायालय में विचाराधीन हैै।

कृपया हमारे youtube चैनल को सब्सक्राइब करें

https://www.youtube.com/channel/UCq1fYiAdV-MIt14t_l1gBIw