Join WhatsApp

News-web

गर्मियों में एसी का इस्तेमाल हो सकता है खतरनाक,इन बातों का रखें ख्याल और करें अपना बचाव

Updated on:

AC Can Increase The Risk In Summer: गर्मी में ऐसी चलाते समय बहुत सावधानी रखनी चाहिए। ऐसी को 12 से 13 घंटे से ज्यादा नहीं चलना चाहिए और बीच-बीच में इसे बंद जरूर कर देना चाहिए इसी को रेगुलर सर्विस और फिल्टर भी समय पर साफ करना चाहिए।

AC Can Increase The Risk In Summer: इस समय भयंकर गर्मी का मौसम चल रहा है और इस कारण हर घर में एक का इस्तेमाल भी ज्यादा हो रहा है लेकिन इससे पहले यह जानना जरूरी है कि लगातार ऐसी नहीं चलना चाहिए क्योंकि इस बढ़ती गर्मी के चलते ऐसी में आग लगने का डर बना रहता है। ऐसे में कई लोगों की चिंता भी बढ़ सकती है। इसलिए ऐसी चलाते समय सावधान रहें।

ऐसी एक मशीन है और जाहिर सी बात है यह भी गर्म हो जाता है लेकिन इस बीच एक को आराम भी देने की जरूरत है। अगर आप एक दिन में 12 से 13 घंटे ऐसी चलाते हैं तो इस बीच-बीच में बंद करके आराम देना जरूरी है। अगर ऐसा नहीं करेंगे तो आपको आगे दिक्कत हो सकती है।

नॉनस्टॉप एसी न चलाएं
एक के कंप्रेसर और कंडेनसर में दिक्कत से आग लग सकती है। गर्मी में अक्सर सभी घरों में ऐसी चलते हैं कुछ घरों में पूरे दिन नॉनस्टॉप ऐसी चलता है। ऐसा करने से बिजली के मीटर पर भी लोड पड़ता है। कंप्रेसर और कंडेनसर को लगातार काम करना पड़ता है जिससे वह ज्यादा गर्म हो जाते हैं। अगर एक की बाहरी यूनिट के आसपास सही वेंटिलेशन नहीं है तो गर्मी बाहर नहीं निकाल पाती है।

ढीले कनेक्शन न होने से शॉर्ट सर्किट का AC की वायरिंग में कोई खराबी या खतरा बढ़ जाता है।बिजली का बार-बार आना-जाना कंप्रेसर-कंडेनसर पर बुरा असर डालता है।गैस लीक होने से या गैस कम होने से कंडेनसर और कंप्रेसर पर ज्यादा दबाव पड़ता है जिससे वह ज्यादा गर्म होने लगता है।

बचाव कैसे करें

एसी को लगातार नहीं चलाना चाहिए और 5 से 6 घंटे के बाद 20 से 25 मिनट के लिए इसे बंद कर देना चाहिए गर्मी ज्यादा हो तो ऐसी के कंप्रेसर को छांव में रखना चाहिए कंप्रेसर और कंडेनसर यूनिट के आसपास सही तरीके से वेंटिलेशन हो वहां हवा आती जाती हो ताकि यूनिट ज्यादा गम ना हो। सर्विसिंग में कूलिंग कॉइल सफाई जरूर कराएं।

सर्विस में कूलिंग फैन की भी जांच करें। अगर इसमें कोई समस्या हो तो उसे तुरंत ठीक करवाएं।सीजन में एक सर्विस के बाद हर 10 दिन बाद AC फिल्टर साफ करें।AC को इलेक्ट्रिक करंट देने वाली वायरिंग की जांच करवाएं। जरूरत पड़ने पर बदलें।अच्छी क्वालिटी के सॉकेट और प्लग का इस्तेमाल करें। कॉपर की कॉइल वाला AC ही लें।